"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

गुरुवार, दिसंबर 24, 2009

रावेंद्रकुमार रवि का एक बालगीत : जाओ बीते वर्ष

गत "बाल-दिवस" पर मैंने "सरस पायस" को
पूरी तरह से बच्चों को समर्पित कर दिया था!

उसके कुछ समय बाद से "सरस पायस" पर पूर्व प्रकाशित
सभी रचनाएँ दिखाई देना बंद हो गईं
और "बाल-दिवस" पर प्रकाशित पोस्ट
के अंतर्गत प्रकाशित रचना
के साथ लगे सभी फ़ोटो ग़ायब हो गए!

कुछ पता नहीं चल पाया - कैसे?

इस व्यवधान के बाद आज से मैं
पर पुन: प्रकाशन प्रारंभ कर रहा हूँ!
इस बालगीत के साथ --

जाओ बीते वर्ष,
तुम्‍हारी बहुत याद तड़पाएगी!

जो भी सपने देखे हमने
किए तुम्‍हीं ने पूरे!
बहुत प्रयास किए लेकिन
अब तक कुछ रहे अधूरे!
माना नए वर्ष में ये
सपने पूरे हो जाएँगे!
और हमारी आशाओं के
नए पंख लग जाएँगे!
किंतु किसी टूटे सपने की
फिर भी याद सताएगी!

जाओ बीते वर्ष,
तुम्‍हारी बहुत याद तड़पाएगी!

अगर बिछुड़ते हैं कुछ तो
कुछ नए मीत भी मिलते हैं!
जिनके साथ बैठकर हम
सुख-दुख की बातें करते हैं!
माना नए मिले साथी भी
मन को भा ही जाएँगे!
उनके साथ खेल-पढ़ लेंगे
संग-संग मुस्‍काएँगे!
किंतु किसी बिछुड़े साथी की
फिर भी याद रुलाएगी!

जाओ बीते वर्ष,
तुम्‍हारी बहुत याद तड़पाएगी!

रावेंद्रकुमार रवि

13 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत ही गरिमामय
और
भाव-भीनी विदाई दी है आपने,
जाते हुए वर्ष को!

Udan Tashtari ने कहा…

जाओ बीते वर्ष,
तुम्‍हारी बहुत याद तड़पाएगी!


-बहुत बढ़िया.

ADESH KUMAR PANKAJ ने कहा…

BAHUT HI SUNDER TARIKE SE PURANE VARSH KO VIDAI DI HAI APNE.BHAI RAVI JI MANAKI JANE KA DUKH TO HOTAHAI. PAR YEH BHI SUCH HAI KI AAGE JANE KE LIYE PEECHE KO BHULNA HI HOGA.

ADESH KUMAR PANKAJ ने कहा…

बहुत सुंदर और प्रभाव शाली तरीके से पूर्व वर्ष की विदाई |
उन यादों को भूल कर आगे पथ पर चलते रहना ही उन्नति का सूचक है |
भाई रवि जी आपको नए वर्ष की बहुत -बहुत शुभ कामनाएँ

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर लगा पढ् कर आप की यह रचना. धन्यवाद

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

ग्वालियर, मध्य प्रदेश (भारत) से
आदरणीया गिरिजा कुलश्रेष्ठ द्वारा
ई-मेल से भेजा गया संदेश --
"उम्मीदों को अन्तर में समेटे अनकही सी व्यथा के बोध को व्यक्त करता य़ह बाल-गीत रवि को कवि के रूप में उजागर करता है!"

sidheshwer ने कहा…

वर्ष तो बीत गया रवि जी
किन्तु जीवन और जगत की नदी
अविराम बह रही है
बहती रहेगी।

नए साल में
नया कुछ करना है
और पुराने वर्ष की सार्थक जीवंतता से
पथ को आलोकित करना है।

* रचना हमेशा की तरह अच्छी और सच्ची !
बना रहे यह क्रम !!
शुभकामनायें ! ! !

Laviza ने कहा…

शुक्रिया रवि अंकल,
मुझे अपने ब्लॉग में स्थान देने के लिए मेरे और मेरे परेंट्स की तरफ से आपका बहुत बहुत शुक्रिया..

Kashvi Kaneri ने कहा…

माना नए मिले साथी भी
मन को भा ही जाएँगे!
उनके साथ खेल-पढ़ लेंगे
संग-संग मुस्‍काएँगे!
किंतु किसी बिछुड़े साथी की
फिर भी याद रुलाएगी!
बहुत सुन्दर पँक्तियाँ हैं ………मेरे मन को छू गई……लगता है ये मेरे लिये ही बनी है । धन्यवाद अंकल…..

GK Khoj ने कहा…

youtube video downloader ss
SPAM in Hindi
Encryption in Hindi
full form gps
haikar software
Internet in Hindi
hindi computer

GK Khoj ने कहा…

Roaming Meaning in Hindi
Server Meaning in Hindi
what is computer in Hindi
Hindi torrent
Google Hindi Search
Control Panel in Hindi
Online Paise Kaise Kamaye

GK Khoj ने कहा…

Hindi torrent
Whatsapp Download Kare
App Kese Banaye
Photo Se Video Banana
Apne Naam Ki Ringtone
UC Browser in Hindi
Photo Se Video Banane Wala App

vxbay ने कहा…

encryption meaning in hindi

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।