"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

शनिवार, नवंबर 14, 2009

आज से "सरस पायस" पूरी तरह से बच्चों का



आज बाल-दिवस है!
आज से "सरस पायस" पूरी तरह
से बच्चों का है!
अब इस पर प्रकाशित होनेवाली समस्त सामग्री
बच्चों से ही संबंधित हुआ करेगी!
दुनिया के सभी बच्चों को सरस प्यार!
जिनके जन्म-दिन पर बाल-दिवस मनाया जाता है,
उनसे संबंधित एक कविता आप सबके लिए -
याद आपकी आती है

प्यारे-प्यारे नेहरू चाचा,
याद आपकी आती है !
दिल में खुशी हमारे भरकर
हम पर प्यार लुटाती है !!

जन्म-दिवस हर वर्ष आपका
हँस-हँस खूब मनाते हम !
अपने आँगन में गुलाब की
सुंदर पौध लगाते हम !!


फुलवारी में हर गुलाब की
हँसी आपकी सुनते हम !
साथ आपके खेल-कूद के
सुंदर सपने बुनते हम !!


हँस लें चाहे कितना भी, पर
कमी आपकी खलती है !
मन के कोमल कोने में जो
बनकर दर्द सिसकती है !!


रावेंद्रकुमार रवि

13 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बढ़िया किया.

बाल दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएँ.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बाल-दिवस की शुभकामनाएँ!

ज्योति सिंह ने कहा…

chacha nehru ko mera bhi shat -shat pranaam .naam sada raushan ho is jag me kare hum aesa kaam .rahe burai se door ,bane na hum mazboor ,chalkar chacha ke dikhlaaye path ,raushan kare jahan . rakkhe jinda chacha nehru ka naam ,apne karmo se sada .
apne kuchh sabdo se main is mahan neta shradha arpit karti hoon .raavendra ji aapki rachna shaandar hai .

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

अच्छा है
इसे थोडा ज्ञानवर्धक भी बनायें

sidheshwer ने कहा…

यह परिवर्तन फूले - फले !
हैप्पी बाल दिवस !!

श्याम सखा 'श्याम' ने कहा…

नेहरु जी के निधन पर कवि नीरज जी ने एक कविता लिखी थी उसकी कुछ पंक्तियां देखें
मौत कितने रंग बदले ढंग बदले
मौज बदले तरंग बदले
जब तलक जिंदा कलम है
हम तुझे मरने न देंगे

श्याम सखा 'श्याम' ने कहा…

कृपया-तुझे के स्थान पर तुम्हे करें मेरी टिप्पणी में

चंदन कुमार झा ने कहा…

बहुत ही सुन्दर और मन भानभावन रचना । आभार

Nirmla Kapila ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना है। नेहरू जी मेरे प्रेरणास्त्रोत है इस महान विभूति को शत शत नमन । बाल दिवस की शुभकामनायें
हँस लें चाहे कितना भी, पर
कमी आपकी खलती है !
मन के कोमल कोने में जो
बनकर दर्द सिसकती है !!
ये पँक्तियाँ बहुत अच्छी लगी हमारे शहर जब भाख्डा डैम बन रहा था तो वो 10 बार आये हैं और हम ने दस बार ही नेहरू जी को साक्षात देखा है। शुभकामनायें

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बाल दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएँ

शरद कोकास ने कहा…

बच्चों मे वैज्ञानिक दृष्टि के विकास के लिये प्रयास करें ।

JHAROKHA ने कहा…

चाचा नेहरू और बालदिवस पर लिखी एक बेहद सुन्दर रचना।बधाई।
पूनम

ashok andrey ने कहा…

bahut sundar rachnaa hai bachchon ko pasand aaye gee badhai
ashok andrey

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।