"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

बुधवार, अप्रैल 20, 2011

चूहा नाचा : आरती के चित्र के साथ रवि की शिशुकविता

चूहा नाचा

चुहिया ने जब मटर खिलाई, 
चूहा नाचा ज़ोर से! 
बोला, "मैंने तो सीखा है, 
नाच सुहाना मोर से!"




आरती 
-----------------------------------------------------------------

11 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

आरती की ड्राइंग वास्तव में काबिले तारीफ़ है !
शुभकामनाएँ !

संजय भास्कर ने कहा…

कितने सुंदर ड्राइंग...... मुझे बहुत अच्छे लगे...

लविज़ा | Laviza ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Saba Akbar ने कहा…

ड्राईंग तो लवी को भी बहुत पसंद है..

घनश्याम मौर्य ने कहा…

अच्‍छे रंग बिखेरे हैं आरती की तूलिका ने।

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर चित्र ओर अति सुंदर कविता जी धन्यवाद

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सुंदर ड्राइंग...सुंदर पंक्तियाँ

डॉ. नागेश पांडेय "संजय" ने कहा…

चलिए कोई नाचा तो . .....इतने दिनों के बाद ही सही पर अपनी परम्परा के अनुकूल सरस पायस पर फिर एक उत्तम रचना देखने को मिली . मेरा भी मन नाच उठा . चित्र बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत ........सुन्दर है और शिशुगीत भी ......बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत ........सुन्दर .

चैतन्य शर्मा ने कहा…

कितनी सुंदर ड्राइंग ...बहुत अच्छी लगी....

Chinmayee ने कहा…

बहुत ही सुन्दर चित्र है !

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

अरे वाह!
ड्रॉइंग के साथ कविता भी!
आरती को आशीर्वाद और आपकी पारखी नजर को सलाम!

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।