"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

बुधवार, मार्च 03, 2010

हम हैं बच्चे सबसे अच्छे : विश्वबंधु की एक बालकविता

हम हैं बच्चे सबसे अच्छे
-----------
आज आपको 7 साल के एक नन्हे कवि की कविता
पढ़वाई जा रही है, जो शाहजहाँपुर (उ.प्र.) के
एम. आर. सिंधिया पब्लिक स्कूल में कक्षा - 2 के छात्र हैं ।
नन्हे कवि की अभिव्यक्ति को
ज्यों का त्यों प्रकाशित किया जा रहा है -
-----------
हम हैं बच्चे मन के सच्चे
पाठशाला में हम पढ़ते हैं
कभी-कभी हम मौज मनाते तो
कभी-कभी हम रेस लगाते हैं
कभी-कभी हम चित्र बनाकर
उसको रंग हम लेते हैं
हम हैं बच्चे सबसे अच्छे
पाठशाला में हम पढ़ते हैं ।
-----------
अब आप वह चित्र देखिए,
जिसे देखकर उन्होंने यह कविता रची है -


और अब आप मिलिए,
इस कविता के रचयिता से -


--(( विश्वबंधु ))--

आनंदपुरम् कॉलोनी, शाहजहाँपुर (उ.प्र.)
मोबाइल नंबर - 9415035767

10 टिप्‍पणियां:

M VERMA ने कहा…

अरे वाह बहुत सुन्दर कविता भी और रचयिता भी

चंदन कुमार झा ने कहा…

होनहार वीरवान के होत चीकने पात । विश्वबंधु की बहुत ही सुन्दर कविता । शुभकामनायें ।

sangeeta swarup ने कहा…

विश्वबंधु को ढेर सारी बधाई और शुभकामनायें....अभी से कल्पना की उड़ान और हकीकत दोनों में सामंजस्य किया हुआ है...और रावेंद्र जी को आभार कि हमें ये कविता पढने का अवसर दिया

neha ने कहा…

vishwabandhu..mere bachche..tumhari pratibha din duni raat chouguni bare,yahi mera aashirwad hai..tum bahut bare kavi bankar sare vishwa me cha jao..(neha gupta anju)

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

अरे वाह बहुत सुन्दर कविता है.

archna gupta desh ने कहा…

mera ashirwad hai ki mera vishwa sare vishwa apna,apne pariwar ka aur apne desh ka naam roshaan kare(archna gupta)

डॉ. देशबंधु शाहजहाँपुरी ने कहा…

itni sundar kavita ke nanhe rachnakar ke rachnakar ko mera naman,jisne itni sundar rachna ka srajan karne ki prerna dee,mera aashirwad hai ki vishwa bandhu,vishwa vikhyat kavi bankar desh kee keerti sarvatra bikhere.(dr.desh bandhu shahjahanpuri)

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर!
आज यह बात तो साबित हो ही गई है
लोहार का बेटा तो लोहार नही हो सकता,
परन्तु कवि का बेटा कवि अवश्य हो सकता है!

शरद कोकास ने कहा…

शाबास विश्वबन्धु ..बड़े होकर भी कविता लिखना ।

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

यह जानकर बहुत अच्छा लग रहा है कि
आप सबको "विश्वबंधु" की कविता पसंद आई!
इसे प्रकाशित करके मैं बहुत ख़ुश हूँ!

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति