"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

बुधवार, मार्च 24, 2010

जन्म-दिवस पर पाखी के लिए उपहार : रावेंद्रकुमार रवि का नया शिशुगीत

जन्म-दिवस पर पाखी के लिए उपहार

आज मैं अचानक
पाखी की दुनिया में पहुँच गया!
पाखी ने कहा - "देखो मेरी गुड़िया"


फिर बोली -
"इसको भी एक गीत सुनाना!"
मैंने वहाँ बैठी गौरइया को देखकर
एक गीत रचा और सुनाने लगा -
गौरइया जब आती है,
मीठा गीत सुनाती है!
गौरइया जब आती है,
चुग्गा लेकर आती है!
अपने सब चूज़ों के मुँह में,
धरकर इसे खिलाती है! गौरइया जब जाती है,
पाखी से कह जाती है -
ध्यान ज़रा रखना बच्चों का,
अभी लौटकर आती है! गौरइया जब गाती है,
पाखी ख़ुश हो जाती है!
फुदक-फुदककर, चहक-चहककर,
उसको नाच दिखाती है!
आज पाखी का जन्म-दिन भी है!
"जन्म-दिन हो शुभ तुम्हारा!"
कामना यह शुभ हमारी!
--------------------------
- और यह रही पाखी के द्वारा की गई चित्रकारी -

--------------------------

रावेंद्रकुमार रवि

16 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बढ़ियाँ..पाखी बिटिया को जन्म दिन मुबारक और ढेर आशीष!!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

कविता में पाया गौरैय्या का
अभिनव संसार!
जन्म-दिवस पर क्या होगा
इससे सुन्दर उपहार!

अक्षिता (पाखी) को जन्मदिवस की
प्यारभरी शुभकामनाएँ और शुभाशीर्वाद!

sangeeta swarup ने कहा…

सुन्दर गीत....पाखी को जन्मदिन की शुभकामनायें

JHAROKHA ने कहा…

priya paakhi ke janmdiwas par aapane use bahut hi pyara uphar diya hai.bahut sundar kavita.paakh bitiya ko hamari taraf se dher saara pyar.

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

सुन्दर गीत. मेरी भी विलम्बित शुभकामनायें.

सरस पायस : Saras Paayas ने कहा…

जन्म-दिन शुभ हो, पाखी!
--
हँसती रहो!
--
मुस्कुराती रहो!
--
गीत यूँ ही सदा गुनगुनाती रहो!
--
हर सफलता तुम्हें गुदगुदाती रहे!
--
जीत बनकर तुम्हें झिलमिलाती रहे!

Ram Shiv Murti Yadav ने कहा…

पाखी के लिए बहुत सुन्दर गीत आपने रचा. आपको बधाई और पाखी को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएँ, प्यार और आशीष !!

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

जन्म-दिवस पर पाखी के लिए प्यारा उपहार. रवि जी, आपने सुन्दर गीत के माध्यम से अपनी मासूम भावनाएं अभिव्यक्त कीं, आप हमारे साथ पाखी के जन्म-दिन पर हमारी खुशियों में शरीक हुए..यह आप का स्नेह और आशीष है. आपका आशीर्वाद और शुभकामनायें पाखी को सुखी, स्वस्थ, समृद्ध और उन्नत जीवन की तरफ अग्रसर करेंगीं. एक बार पुन: आपका आभार.

अक्षिता (पाखी) ने कहा…

बहुत प्यारा. यहाँ हमारे जन्म-दिन की ढेर सारी शुभकामनायें और प्यार-आशीष भी. मेरा चित्र और मेरी पेंटिंग भी. यह तो मेरे जन्म-दिन का सबसे प्यारा तोहफा है. अब तो यहाँ आती रहूँगीं. आप सभी के आशीर्वाद और प्यार की सदैव आकांक्षी हूँ...अंकल जी, आपको ढेर सारा प्यार और थैंक्स.

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

"सरस पायस" है ही -
ख़ुशियाँ और प्यार देने के लिए!

हर्षिता ने कहा…

पाखी को जन्मदिन की शुभकामनाएं तथा अच्छी प्रस्तुति।

सहज साहित्य ने कहा…

भाई रवि जी पहली बधाई आपको -सुन्दर , सरस कविता लिखने के लिए , साथ में पाखी को भी ढेर सारी शुभकामनाएँ ।

Ghanshyam Maurya ने कहा…

aapke shishugheet vaakai gungunaane laayak aur smarneey hain. is sundar prayas ko jari rakhen.

आदेश कुमार पंकज ने कहा…

बहुत सुंदर बाल कविता है

आदेश कुमार पंकज ने कहा…

पाखी के जन्म दिन पर बहुत बधाई और सरस पायस को शुभ कामना |

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति