"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

रविवार, जनवरी 17, 2010

लगी झूमने फिर खेतों में : डॉ॰ देशबंधु शाहजहाँपुरी का एक बालगीत

लगी झूमने फिर खेतों में


कुहू-कुहूकर कोयल सबको मधुरिम गीत सुनाती!
फूलों के चेहरों पर खिलकर मुस्काहट सज जाती!!


मस्त पवन के साथ महककर झूम उठी हरियाली!
पीपल के पत्तों ने मिलकर ख़ूब बजाई ताली!!


बगिया में गेंदा-गुलाब संग सभी फूल मुस्काते!
मतवाले भँवरे गुंजनकर होली-गीत सुनाते!!


लगी झूमने फिर खेतों में सरसों पीली-पीली!
उसके फूलों से बतियाती तितली रंग-रँगीली!!


यह सब देख लगे धरती पर स्वर्ग उतर आया है!
फागुन के मौसम में चहुँदिश रंग बरस छाया है!!


डॉ॰ देशबंधु शाहजहाँपुरी




7 comments:


रंजन ने कहा…
होली की रंगबिरंगी रचना.. बधाई.. होली की शुभकामनाऐं..

डॉ. देशबंधु शाहजहाँपुरी ने कहा…
रंजन भाई को मेरी रचना पसंद आई आपको रंगीन बधाई

डॉ. देशबंधु शाहजहाँपुरी ने कहा…
रंजन भाई को मेरी रचना पसंद आई आपको रंगीन बधाई

neha ने कहा…
आपकी होली की कविता बहुत प्यारी है आपको बधाई!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…
यह पोस्टलेखक के द्वारा निकाल दी गई है.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…
देशबन्धु की इस कविता में, कुदरत का सिंगार सरस है। रवि के रंगों से जग-मग, यह स्वाद भरी पायस है।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…
देशबन्धु की इस कविता में, कुदरत का सिंगार सरस है। रवि के रंगों से जग-मग, यह स्वाद भरी पायस है।

4 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सुन्दर फूलों के साथ इस बालगीत में महक आ गई है!


लगी झूमने फिर खेतों में सरसों पीली-पीली!
उसके फूलों से बतियाती तितली रंग-रँगीली!!

इन पंक्तियों का रंग दब गया है। दिखाई नहीं दे रहीं हैं।

ज्योति सिंह ने कहा…

यह सब देख लगे धरती पर स्वर्ग उतर आया है!

फागुन के मौसम में चहुँदिश रंग बरस छाया है!!
bahut hi sundar rachna

डॉ टी एस दराल ने कहा…

बहुत खूबसूरत तस्वीरें । सुन्दर प्रस्तुति के साथ।
शुभकामनायें।

सत्य नारायण सत्य ने कहा…

बहुत सुंदर रचना ।

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति