"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

शनिवार, जुलाई 02, 2011

आओ, सीखें गिनती : रावेंद्रकुमार रवि का नया फ़ोटो फ़ीचर

आओ, सीखें गिनती गिनना, इन फूलों के साथ!

















♥♥ रावेंद्रकुमार रवि ♥♥

6 टिप्‍पणियां:

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

रावेन्द्र छरजी,
हमें गिनती छिखा रहे हो ... या फिल 'फूल' बना रहे हो?

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बढ़िया फोटो फीचर!
बच्चों आओ और गिनकर बताओ!

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

बज़ से --

indu puri goswami – मेरे स्कूल की दीवारों पर इसी तरह मैंने एक दो तीन.....के क्रम से अलग अलग फूलो के चित्र पैंट करवाए हैं.उनसे बच्चे जोड़,बाकी,आरोही,अवरोही क्रम सीखते हैं और सब तरह के फूलों को पहचानने भी लगे हैं .आप इन्हें क्रमबद्ध तरीके से पोस्ट करते ना,ज्यादा अच्छे लगते. 3 Jul 2011

रावेंद्रकुमार रवि – इंदु जी, ऐसा मैंने जानबूझकर किया है!
--
यह ज़रूरी तो नहीं कि कोई पहले एक ही गिनना सीखे!
--
ऐसे गिनने की कला ज़्यादा अच्छे ढंग से सीखी जा सकती है!
--
यहाँ भाषा का भी कोई बंधन नहीं है! केवल गिनना सीखना है! अंक नहीं पहचानना है!
--
क्रम व्यवस्थित करने का मौका भी तो साखनेवाले को मिलना चाहिए! 3 Jul 2011

चैतन्य शर्मा ने कहा…

मैं भी आजकल गिनती ही सीख रहा हूँ...... आपने तो बहुत सुंदर ढंग से सिखाई

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बहुत बढ़िया सर!
-------------------------
कल 05/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी-पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

वीना ने कहा…

बढ़िया अंदाज़....

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।