"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

रविवार, मई 02, 2010

आदित्य रंजन के लिए रावेंद्रकुमार रवि की एक बालकविता


प्यार से ... ... .


मम्मी की गोदी में चढ़कर,
जब उनकी आँखों में देखा,
ँखों में था सपना!
सपने में देखा, तो देखा --
दौड़-दौड़कर, कूद-कूदकर,
खेल रहा हूँ मैं,
प्यार से
खेल रहा हूँ मैं!
मम्मी की गोदी में चढ़कर,
जब उनकी नथनी में देखा,
नथनी में था अपना!
अपने को देखा, तो देखा --
उसमें बैठा बहुत शान से,
झूल रहा हूँ मैं,
शान से
झूल रहा हूँ मैं!


(आज मेरा और आदित्य, दोनों का जन्म-दिन है!)

रावेंद्रकुमार रवि
राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, चारुबेटा,
खटीमा, ऊधमसिंहनगर, उत्तराखंड (भारत)


6 comments

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…
माता की गोदी में शिशु को, सारा सुख मिल जाता है। कृष्ण-कन्हैया को पाकर, मैया का मुख खिल जाता है।


Ratan Singh Shekhawat ने कहा…
बहुत अच्छा ! आदि के लिए कविता लिखने का धन्यवाद !
रंजन ने कहा…
आपने चित्र को शब्द देकर उसमें प्राण फूंक दिये.. शुक्रिया..


Krishna Patel ने कहा…
bahut badhiya. isi tarah shreshth rachanaye hum tak pahuchate rahe.


शिवराज गूजर. ने कहा…
man ko chhoo lene wali rachana.


Harkirat Haqeer ने कहा…
Waah Waah... bhot sunder bal kavita...!!

13 टिप्‍पणियां:

गत्यात्मक ज्योतिष ने कहा…

बहुत सुंदर रचना है .. आप दोनो का जन्‍मदिन की बधाई और शुभकामनाएं !!

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

चर्चा मंच पर

मेरा मन मुस्काया!

शीर्षक के अंतर्गत
इस पोस्ट की चर्चा की गई है!

आदेश कुमार पंकज ने कहा…

आपको और आदित्य रंजन को जन्म दिन की बहुत -बहुत बधाई |
बच्चों को ममता, प्यार,दुलार माँ की गोदी में मिल जाता |
सारे जग से जो मिल न सके वह माता से मिल जाता है |
जन्म दिन मुबारक

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

प्रियवर रावेन्द्रकुमार रवि जी!
आपको, संदीप जी को तथा आदित्य को
जन्म-दिन की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!
--
खुशियों के रंग आप सबके जीवन में
सदैव ही जगमगाते रहें! मेरी यही कामना है!

सैयद | Syed ने कहा…

आपको और आदित्य को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें...

आदि और लवी के लिए इतने सुन्दर सुन्दर गीत रचने के लिए आपका फिर से धन्यवाद

Shri"helping nature" ने कहा…

niceee

sangeeta swarup ने कहा…

बहुत प्यारा बालगीत.....आपको और आदित्य को जन्मदिन की शुभकामनायें

अक्षिता (पाखी) ने कहा…

कित्ता सुन्दर गीत लिखा आपने आदित्य के लिए ...रवि अंकल जी और आदित्य को जन्मदिन की हार्दिक बधाई.

______________
'पाखी की दुनिया' में 'वैशाखनंद सम्मान प्रतियोगिता में पाखी' !

JHAROKHA ने कहा…

Ravendra ji,
bahut hee pyaara balgeet likha hai apne aditya ke liye.apko aur aditya ji ko janmdivas kee hardik shubhkamnayen evam badhai.
Poonam

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

अरे वाह.. बधाई हो. बहुत-बहुत शुभकामनायें आपको और आदित्य को.

रंजन ने कहा…

बहुत आभार..

आपको भी शुभकामनाए...

माधव ने कहा…

बधाई हो. बहुत-बहुत शुभकामनायें आपको और आदित्य को
जन्म-दिन की हार्दिक शुभकामनाएँ!
चर्चा मंच पर माधव को जगह देने के लिए धन्यावाद

MAYUR ने कहा…

बहुत बहुत बधाई, आप दोनों शत आयु और यशस्वी हों

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति