"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

मंगलवार, अप्रैल 27, 2010

मेरा मन मुस्काया : रावेंद्रकुमार रवि का नया शिशुगीत

मेरा मन मुस्काया
------------
खिल-खिल करके, खिल-खिल करके,
मेरा मन मुस्काया
मेरी चिड़िया ने जब मुझको,
मीठा गीत सुनाया -
खिल-खिल करके, खिल-खिल करके,
मेरा मन मुस्काया!

मेरे पिल्ले ने जब बढ़कर,
मुझसे हाथ मिलाया -
खिल-खिल करके, खिल-खिल करके,
मेरा मन मुस्काया!

मेरे तोते ने जब मुझको,
लेकर नाम बुलाया -
खिल-खिल करके, खिल-खिल करके,
मेरा मन मुस्काया!

(पहले चित्र में : प्रियांशु ओम) 
(अन्य चित्र : गूगल सर्च से साभार)

10 टिप्‍पणियां:

M VERMA ने कहा…

बहुत सुन्दर बाल गीत
बहुत सुन्दर चित्र

दिव्य नर्मदा divya narmada ने कहा…

सरस, सरल, सुन्दर, मधुर, मुझको भाया गीत.
कलरव-कलकल सुन सखे, बढे ह्रदय में प्रीत.

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत ही सुंदर चित्र ओर बाल कविता.
धन्यवाद

sangeeta swarup ने कहा…

बहुत सुन्दर शिशुगीत ...और चित्र तो कमाल के हैं..प्रियांशु ओम का चित्र नहीं खुला.. :(:

Hindiblog Jagat ने कहा…

ब्लौगर मित्र, आपको यह जानकार प्रसन्नता होगी कि आपके इस उत्तम ब्लौग को ब्लॉगजगत में स्थान दिया गया है. ब्लॉगजगत ऐसा उपयोगी मंच है जहाँ हिंदी के सबसे अच्छे ब्लौगों और ब्लौगरों को ही प्रवेश दिया गया है, यह आप स्वयं ही देखकर जान जायेंगे.
आप इसी प्रकार रचनाधर्मिता को बनाये रखें. धन्यवाद.

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

संगीता जी,
सबसे सुंदर फ़ोटो तो प्रियांशु जी की है!
--
अब यह जल्दी-जल्दी खुलने लगा है!
--
देखने के लिए जल्दी से आ जाइए!

माधव ने कहा…

खुबसूरत गीत और सुन्दर तसवीरें
आप इसी प्रकार रचनाधर्मिता को बनाये रखें. धन्यवाद

nilesh mathur ने कहा…

सुन्दर गीत !

अक्षिता (पाखी) ने कहा…

बहुत प्यारा गीत है..मजा आ गया पढ़कर.

*******************************
पाखी की दुनिया में इस बार चिड़िया-टापू की सैर !!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सुन्दर चित्र और मनभावन शिशु-गीत को पढ़कर
तो मेरा भी मन खिल उठा यानि मुस्काने लगा!

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति