"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

मंगलवार, जून 08, 2010

मेरा मुँह है कितना सुंदर : प्रवीण त्रिवेदी का फ़ोटो फ़ीचर

मेरा मुँह है कितना सुंदर

--------------------------------------------------
( 1 )
--------------------------------------------------
( 2 )
--------------------------------------------------
( 3 )
--------------------------------------------------
( 4 )
--------------------------------------------------
( 5 )
--------------------------------------------------
( 6 )
--------------------------------------------------
( 7 )
--------------------------------------------------
( 8 )
--------------------------------------------------
छायाकार : प्रवीण त्रिवेदी (चित्रों में : जिया)
--------------------------------------------------


18 टिप्‍पणियां:

Jandunia ने कहा…

बहुत सुंदर

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर , मुझे लगता है बच्ची ने कच्चे आम का एक पीस मुंह मै डाल लिया है, ओर फ़िर ऎसी शकल बना ्रही है. बहुत प्यारी लगी

Udan Tashtari ने कहा…

वाकई..बहुत सुन्दर और प्यारा!!

M VERMA ने कहा…

है .. मुँह सुन्दर है
सुन्दर चित्र

Suman ने कहा…

nice

Rajeev Bharol ने कहा…

Cute!

pukhraaj ने कहा…

कैसे भूलेंगे ये चेहरा ... गोल मटोल ... कभी पिचकू ... ये इसके उसके हम सबके बचपन का मुंह बनाता चेहरा है ...

मनोज कुमार ने कहा…

जीवन के विभिन्न रंग क़ैद कर लाए हैं, इन तस्वीरों में।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत ही प्यारे चित्र...मन को भा गए सारे के सारे

रंजन ने कहा…

bahut sundar..

राजकुमार सोनी ने कहा…

आज का अपना दिन तो ठीक जाने वाला है। इतनी प्यारी बच्ची की तस्वीर जो देख ली है।

माधव ने कहा…

REALLY BEAUTIFUL

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस सुन्दर पोस्ट की चर्चा मैंने यहाँ भी की है!
--
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/06/1.html

Sunny Khetarpal ने कहा…

so cute baby

source: http://www.twitterons.com

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

सन्नी क्षेत्रपाल की टिप्पणी का हिंदी अनुवाद -

बहुत सुंदर बच्चा!

प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI ने कहा…

अरे वाह!!!
आपने तो इन्हें बहुत अच्छे से पेश किया है | लगता है मेरी मेहनत का सही सदुपयोग आपने किया है |
क्या जल्दी ही ब्लॉग बनाना पडेगा इस छुटकी का ?

.....और हाँ देर से आने की मुआफी !

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

प्रवीण भाई,
नेक काम में देर किस बात की!
--
ब्लॉग का नाम "जिया" ही रखना!
यह बहुत प्यारा नाम है,
जिसमें आंचलिकता की महक के साथ-साथ
प्रसन्न हृदय भी बसा हुआ है!
--
अगली चर्चा में मैं इस नए ब्लॉग से
एक सुंदर-सा फ़ोटो अवश्य लेना चाहूँगा!

Girish Dubey ने कहा…

वाह क्या कहने !

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति