"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

सोमवार, जून 14, 2010

हम क्या उगाते हैं? : हेनरी एबे की अँगरेज़ी कविता का हिंदी अनुवाद


हम क्या उगाते हैं?

हम क्या उगाते हैं, जब पेड़ लगाते हैं?

हम पानी का जहाज उगाते हैं, जो समुद्र पार करेगा।
हम मस्तूल उगाते हैं, जिस पर पाल बँधेगी।
हम वे फट्टे उगाते हैं,
जो हवा के थपेड़ों का सामना करेंगे।
जहाज का तला, शहतीर, कोहनी,
हम पानी का जहाज उगाते हैं, जब पेड़ लगाते हैं।

हम क्या उगाते हैं, जब पेड़ लगाते हैं?

हम अपने और तुम्हारे लिए एक घर उगाते हैं।
हम बल्लियाँ, पटिए और फर्श उगाते हैं।
हम खिड़की, रोशनदान और दरवाज़े उगाते हैं।
हम छत के लट्ठे, शहतीर
और उसके तमाम हिस्से उगाते हैं।
हम घर उगाते हैं, जब पेड़ लगाते हैं।

हम क्या उगाते हैं, जब पेड़ लगाते हैं?

ऐसी हज़ारों चीज़ें, जो हम हर दिन देखते हैं।
हम गुंबद से भी ऊपर आनेवाले शिखर उगाते हैं।
हम अपने देश का झंडा फहरानेवाला स्तंभ उगाते हैं।
सूरज की गर्मी से छाया मानो मुफ़्त ही उगाते हैं।
हम यह सब उगाते हैं, जब पेड़ लगाते हैं।

---------------------------------------------------------------------------------------
चकमक से साभार : कबीर बाजपेयी द्वारा अनूदित हेनरी एबे की अँगरेज़ी कविता
---------------------------------------------------------------------------------------

8 टिप्‍पणियां:

Harminder Singh ने कहा…

जी हॉ सभी कुछ तो हमें पेड़ से मिलता है यही नही दवाईया भी पेड़ पौधो कि ही देन है । हमें इन्हे बढाना होगा ।
जैसे पित‍्र धर्म होता है और पुत्र धर्म होता है वैसे हमें पेड़ धर्म भी बनाना चाहिए हम जीवन भर इनसे कुछ न कुछ लेते रहते है, हमें भी जीवन में कुछ पेड़ अवश्य ही लगाने चाहिए ।

माधव ने कहा…

very interesting and informatives composition

मनोज कुमार ने कहा…

अच्छी प्रस्तुति।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत बढ़िया अनुवाद!
--
किशोरों के लिए बहुत उपयोगी!

JHAROKHA ने कहा…

बच्चों, बड़ों सभी के लिये उपयोगी और सन्देशपरक रचना।

अक्षिता (पाखी) ने कहा…

ये तो बहुत बढ़िया है...

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

माधव जी की टिप्पणी का हिंदी अनुवाद -
--
बहुत रुचिकर और सूचनाप्रद संयोजन!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...और उपयोगी....पेड़ से क्या क्या मिलता है इसकी अच्छी जानकारी दी है....

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति