"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

शुक्रवार, अगस्त 06, 2010

किलक उठा मन : रावेंद्रकुमार रवि की एक बालकविता

किलक उठा मन

बादल मशकें
भर-भर लाए
सागर के पानी से नभ में!
लगे छिड़कने
फिर यह पानी
वे धरती के हर उपवन में!



गरमी से आकुल
धरती पर
जब पानी का पड़ा फुहारा!
लगी पुलकने
खुश हो धरती
भूल गई अपना दुख सारा!



उपवन-उपवन
लगा चहकने
ओढ़ दुशाला हरियाली का!
रंग-बिरंगे फूल
खिल उठे
किलक उठा मन हर माली का!


रावेंद्रकुमार रवि

11 टिप्‍पणियां:

JHAROKHA ने कहा…

बहुत बढ़िया बालगीत रवि जी----बारिश का बेहतरीन चित्रण किया है आपने। बच्चों को बहुत भायेगा यह गीत।

हेमंत कुमार ♠ Hemant Kumar ने कहा…

बच्चे गीत गुनगुन कर बारिश का आनन्द तो उठायेंगे ही---साथ ही प्रचलन से गायब हो गये शब्द (मशक) के बारे में भी जानेंगे। बहुत सुन्दर बाल गीत।

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत सुंदर।

डॉ. देशबंधु शाहजहाँपुरी ने कहा…

BAHUT SUNDAR KAVITA...AUR BAHUT SUNDAR PHOTO BHEE...BADHAI..

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

डॉ. देशबंधु शाहजहाँपुरी की टिप्पणी का लिप्यांतरण -

बहुत सुंदर कविता...
BAHUT SUNDAR KAVITA...

और बहुत सुंदर फ़ोटो भी...
AUR BAHUT SUNDAR PHOTO BHEE...

बधाई..
BADHAI..

राजभाषा हिंदी ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

Chinmayee ने कहा…

बहुत सुन्दर

Chinmayee ने कहा…

अंकल जी, आप मेरे ब्लॉग से कोई भी चित्र ले सकते हैं .. मैं तो इसे अपनी खुशकिस्मती समझूंगी ...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर गीत ...आनंद आ गया पढ़ कर ..

रंजन ने कहा…

बहुत सुन्दर///

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

मेल से भेजा गया संदेश -

आपकी कविता पढ़ी।
APKI KAVITA PARHI.
सुंदर रूप में प्रस्तुत की है। साधुवाद।
SUNDER ROOP MAI PRASTUT KI HAI.SADHUBAD.
मेरी कोई बाल कहानी या बाल कविता
MERI KOEE BAL KAHANI YA BAL KAVITA
आपके पास है यै नहीं?
AAPK PAS HAI YA NAHI?

डॉ. दिनेश पाठक शशि (मथुरा)
DR.DINESH PATHAK SHASHI (MATHURA)

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति