"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

बुधवार, अगस्त 04, 2010

बहुत सुरीली थी : चुलबुल की गुनगुन : सरस चर्चा ( 8 )

हवा घुस गई है बालों में, आँखों में है रंगत आई!
मची गुदगुदी है गालों में, ओंठों पर मुस्कान सजाई!


इस बार इशिता ने अक्सा बीच पर ख़ूब मस्ती करते हुए
अपने दोस्तों के साथ पिकनिक मनाई!


मार्वे बीच पर उसने चश्मा लगाकर
पानी में भी ख़ूब छपाक-छइ की! हम भी करें चलकर!


३१ जुलाई को अक्षयांशी ने अपनी छोटी बहन
पौच का जन्म-दिन बहुत ख़ुशी के साथ मनाया!
वैसे तो उसका नाम पलक है,
पर प्यार से सब उसे पौच जी कहते हैं!
अब वह एक साल की हो गई है!
चलिए, उसके ब्लॉग पर चलकर उसकी बहना को बधाई देते हैं!


रिमझिम ने अपना घर
झिलमिलाते सितारों से भरकर
तितलियों को उसमें रहने की जगह दे दी!
एक सुंदर-सी कविता भी रची!
आइए, चलकर उसकी कविता पढ़ते हैं!


आप मोबाइल से कैसी-कैसी बातें करते हैं?
बाल-दुनिया पर इस बार मोबाइल से
अच्छी-अच्छी बातें करना सिखाया जा रहा है!
हम भी यह कविता पढ़ने चलते हैं!


आदित्य ने लैपटॉप पर एम. एस. वर्ड में लिखना शुरू कर दिया है!
हम उसके जल्दी स्वस्थ होने की कामना करते हैं,
क्योंकि वह बुखार से जूझ रहा है!
आप ख़ुद ही देख लीजिए -
आदि का चेहरा ही सब कुछ बता रहा है!


पाखी को एक और तोहफा मिला है!
एक क़िताब के मुखपृष्ठ पर उसका फ़ोटो छापा गया!
पाखी को बहुत-बहुत बधाई!


माधव के नानी-नाना आजकल दिल्ली आए हुए हैं!
वह उनके साथ ख़ूब मौज़ मना रहा है!
नानी से मालिश करवा रहा है और ख़ूब घूम रहा है!
सेंट्रल पार्क, कनाट प्लेस में उसकी मस्ती देखिए!


"सरस पायस" पर पहले नाचने-गाने की बात हुई!


फिर "सरस पायस" पर कुछ नन्हे-प्यारे चूज़े भी मुस्कराए!


लेकिन आज "सरस पायस" बहुत उदास है!



मंगल 3.08.2010 की सुबह 5.०० बजे सब कुछ अमंगल करके .............



सपनों में खोई रूपाली, लगती थी : ख़ुशियों की डाली!


लेकिन अब यह रूपाली हमेशा के लिए सपनों में खो गई है!

चुलबुल, दु:ख की इस घड़ी में हम सब तुम्हारे साथ हैं!

गुनगुन फिर से आएगी! एक नई रुनझुन के साथ!

फूलों की तरह फिर से मुस्कराएगी तुम्हारे साथ!


रावेंद्रकुमार रवि

11 टिप्‍पणियां:

बेचैन आत्मा ने कहा…

उम्दा पोस्ट.

राजभाषा हिंदी ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
राजभाषा हिन्दी के प्रचार प्रसार मे आपका योगदान सराहनीय है।

रंजन ने कहा…

उफ्फ्फ... बहुत अफसोस है.. :(

Akanksha Yadav ने कहा…

बहुत सुन्दर चर्चा...

'पाखी की दुनिया; और 'बाल-दुनिया' की चर्चा के लिए विशेष आभार.

शुभम जैन ने कहा…

चर्चा तो बहुत सुन्दर, लेकिन गुनगुन के बारे में जान कर मन अत्यंत दुखी हो गया...

Chinmayee ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।

Akshita (Pakhi) ने कहा…

कित्ती प्यारी चर्चा.... पर गुनगुन के बारे में जानकर अच्छा नहीं लगा...
________________________
'पाखी की दुनिया' में 'लाल-लाल तुम बन जाओगे...'

ज्योति सिंह ने कहा…

कुछ मीठी कुछ खट्टी खबर ,बच्चो की ये क्यारी बडी है प्यारी .गुनगुन फिर चहकेगी अपनी मधुर मुस्कान लिये .

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बढ़िया चर्चा.

rashmi ने कहा…

क्यों जलाती व्यर्थ मुझको!
क्यों रुलाती व्यर्थ मुझको!
क्यों चलती व्यर्थ मुझको!
री-अमर-मरू-प्यास,मेरी मृतु ही साकार बन जा!
पीर मेरी,प्यास बन जा.................!!

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

पोस्ट बहुत ही सुन्दर है ...
गुनगुन के बारे में जानकर मन उदास हो गया ... उसके माता-पिता एवं सभी परिजनों को मेरा हार्दिक संवेदना ...

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति