"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

शुक्रवार, अगस्त 27, 2010

अगर मैं चिड़िया होती ... ... . : रिमझिम की शिशुकविता

अगर मैं चिड़िया होती ... ... .


रात भर सोती,
सुबह उठकर दाने खाती।

आसमान की सैर करती,
इंद्नधनुष के पास जाती,
ख़ूब सारे रंग लाती।

ख़ूब उछलती, ख़ूब फुदकती,
हवा में उड़कर गाने गाती।
अगर मैं चिड़िया होती ... ... .

कन्हैया बनी हूँ मैंकन्हैया बनी हूँ मैं

रिमझिम
♥♥ चिन्मयी इंद्रनील भट्टाचार्जी ♥♥
---------------------------------------------------------------------------

8 टिप्‍पणियां:

Ranjan ने कहा…

bahut sundar..

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

बहुत बढ़िया रचना हैं ... चिड़िया के भाव बच्चों को सुनाऊंगा....

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।

JHAROKHA ने कहा…

सुन्दर बाल गीत----रिमझिम को हर्दिक बधाई।

डॉ. देशबंधु शाहजहाँपुरी ने कहा…

शिशु कविता है अति मनभावन
जैसे बरसे रिमझिम सावन

हेमंत कुमार ♠ Hemant Kumar ने कहा…

बहुत खूबसूरत कल्पना है रिमझिम की---सुन्दर शिशुगीत ।रिमझिम को मेरी हार्दिक शुभकामनायें।

Chinmayee ने कहा…

धन्यवाद रवि अंकल ....

सतीश सक्सेना ने कहा…

वाह रवि अंकल !
बच्चों के दिल में बैठे हो यार ! हार्दिक शुभकामनायें इस प्यारे दिल के लिए.....

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति