"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

गुरुवार, अगस्त 19, 2010

इस पर मन बलिहारी है : डॉ. बलजीत सिंह की एक बालकविता

इस पर मन बलिहारी है

Waterfall

पर्वत से जो है उगता, उठता, गिरता है चलता।
इसमें अति उत्साह भरा, रूप बहुत निखरा-निखरा।

यह पत्थर से टकराता, हर बाधा को ठुकराता।
गति है इसमें वीरों की, चमक-दमक है हीरों की।

झर-झर झरना झरता है, कल-कल स्वर कर बहता है।
इसकी ध्वनि अति प्यारी है, इस पर मन बलिहारी है।

डॉ. बलजीत सिंह के संग्रह
गाओ गीत, सुनाओ गीत से साभार
(चित्र : A Broken World से साभार)
-------------------------------------------------------------------------------------------------

4 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सुंदर भाव युक्त कविता

राजभाषा हिंदी ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति!
राष्ट्रीय व्यवहार में हिन्दी को काम में लाना देश की शीघ्र उन्नति के लिए आवश्यक है।

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

बज़ (Buzz) पर मनोज कुमार (Manoj Kumar) ने कहा –

सरस कविता। सुंदर।

Coral ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना है !

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति