"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

बुधवार, जून 16, 2010

आए जब दो पाखी उड़कर : रावेंद्रकुमार रवि का नया बालगीत


आए जब दो पाखी उड़कर



मेरे घर में बना एक घर,
आए जब दो पाखी उड़कर!


मादा ने दो अंडे देकर,
गरम किया फिर उनको सेकर!
कुछ दिन बाद निकलकर आए,
उसके दो बच्चे मन भाए!

चोंच खोलकर चुग्गा खाते,
पर उनके ना निकले थे पर!
मेरे घर में ... ... .


माँ आती जब चुग्गा लेकर,
हल्ला करते चींचीं कर-कर!
कुछ दिन बाद खुल गईं अँखियाँ,
उगने लगीं मुलायम पँखियाँ!

कुछ दिन बाद सिखाएगी माँ,
उड़ना, तब निकलेंगे बाहर!
मेरे घर में ... ... .


रावेंद्रकुमार रवि


17 टिप्‍पणियां:

देव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुन्दर.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपका बालगीत बहुत सुन्दर है!
--
माँ के हैं उपकार बहुत
वो क.ख.ग. सिखलाती है!
उँगली पकड़ लाल की
वो ही तो चलना सिखलाती है!

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बेहतरीन!!

रंजन ने कहा…

cute..

गिरिजेश राव ने कहा…

सुन्दर । वीडियो गेम में उलझे बच्चों के लिए ऐसी रचनाएँ उन्हें बचपन के करीब तो रखेंगी ही, अपने परिवेश से भी जोड़े रखेंगी।

शीर्षक का चित्र बहुत अच्छा लगा।

शुभम जैन ने कहा…

bahut sundar kavita...

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

रंजन जी की टिप्पणी का हिंदी अनुवाद - "आकर्षक!"

Harminder Singh ने कहा…

हमारे घर में अक्सर यह देखने को मिलता है, काफी बार कबूतर हमारे घर में घोंसले बना लेंते है व अण्डें दे देते है । एक सुखद अनुभव होता है व खुशी है जो बच्चों को किताबो में ही पढ़ने को मिलता है उसे अपनी आँखों से देख रहे है व उसका अनुभव ले रहे है।

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

शुभम् जैन जी की टिप्पणी का लिप्यांतरण -

"बहुत सुंदर कविता!"

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

कितना सुन्दर है यह बालगीत.....पढते पढते सारा दृश्य आँखों के सामने आ गया....रावेंद्र जी को बधाई

आशीष/ ASHISH ने कहा…

Bau jee,
Ho sakta hai ke aap comment hata de, roman me jo hai!
Lekin geet mujhe pasand aaya.....
Bhavishya mein apne baccho ke saath aaya karunga.....
Ha ha ha ha!

मनोज कुमार ने कहा…

बेहतरीन। लाजवाब।

हेमंत कुमार ♠ Hemant Kumar ने कहा…

रावेन्द्र जी, बहुत खूबसूरत बालगीत है आपका---चित्र भी बहुत सुन्दर लगाया है आपने।हार्दिक बधाई।

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

हेमंत जी,
यह मेरे परिवार का सौभाग्य है,
जो इन नन्हे चूज़ों के माता-पिता ने
अपना घर मेरे घर में बनाया!
--
इनके कुछ और सुंदर फ़ोटो
मैं समय-समय पर आप सबको दिखाता रहूँगा!

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

आशीष जी की टिप्पणी का लिप्यांतरण -

बाउ जी,
हो सकता है कि आप कमेंट हटा दें, रोमन में जो है!
लेकिन गीत मुझे पसंद आया ........
भविष्य में अपने बच्चों के साथ आया करूँगा ......
हा हा हा हा!

गिरिजा कुलश्रेष्ठ ने कहा…

भाई रवि,आपका गीत नन्हे बच्चों जैसा ही मासूम और प्यारा है ।मुझे वे दिन याद आगये जब मेरे आँगन में बुलबुल ने घोंसला बनाया और मेरी कई कविताओं व एक कहानी का जन्म हुआ ।निरीक्षण में ऐसी कोमलता व गहनता बनी रहे ,बढती रहे मेरी कामना है ।

अक्षिता (पाखी) ने कहा…

मैं भी तो पाखी हूँ...

प्यारा लगा यह बाल गीत और 'पाखी' तो बहुत प्यारी लगी.

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति