"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

रविवार, जून 27, 2010

चलो, प्यार से हम मुस्कराएँ : सरस चर्चा ( 2 )



ओह, आज पता चला कि
नन्हे आदित्य की तबियत ठीक नहीं चल रही!
हम सब मिलकर प्रार्थना करते हैं कि
वह बहुत जल्दी ठीक हो जाए!
हम सबके साथ खिलखिलाकर हँसे और प्यार से मुस्कराए!




कान्हा की बातें एकदम नए अंदाज़ में!






अरे! यह तो पाखी का नया हवाई जहाज लग रहा है!






आदित्य : मेरे मुँह का नाप ले लीजिए, ताकि ... ... .!




लविज़ा आपको दिखा रही है -
मेट्रो ट्रेन के कुछ मस्ती-भरे नज़ारे!

LavizaLaviza





यह कैसी पूछताछ है?






इस बार देसी घी की इमरतियों की दावत है!




इन्हें पहचाना आपने?






नभ में कैसे दमक रहा है! चंदा मामा चमक रहा है!




अंत में देखते हैं : चुलबुल के द्वारा बनाया गया यह चित्र!


चुलबुली




अगले रविवार को फिर मिलेंगे! तब तक के लिए शुभविदा!

6 टिप्‍पणियां:

सैयद | Syed ने कहा…

नन्ही चुलबुली बड़ी होकर जरूर एक अच्छी चित्रकार बनेंगी.... बहुत सुन्दर चित्र बनाया है...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर चर्चा...

शुभम जैन ने कहा…

अरे वाह निराले अंदाज में एक निराली चर्चा...और नन्ही परी को शामिल करना तो एक surprise जैसा रहा...बहुत आभार आपका...
जल्द ही अपनी शैतानिया बताती है ईशिता....

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत ही सुंदर जी

Akshita (Pakhi) ने कहा…

बहुत खूब अंकल जी..शानदार चर्चा. मेरा जहाज तो बहुत प्यारा है. पापा को भी बताउंगी.

_______________________
'पाखी की दुनिया' में 'कीचड़ फेंकने वाले ज्वालामुखी' जरुर देखें !

KK Yadava ने कहा…

अरे! यह तो पाखी का नया हवाई जहाज लग रहा है!....

बड़ा मजेदार है..शानदार चर्चा..बधाई.

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति