"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

रविवार, जून 20, 2010

इन्हें देख मन गाने लगता : सरस चर्चा ( 1 )



---------------------------------------------------------
इन्हें देख मन गाने लगता!
---------------------------------------------------------
कोई कुछ भी कहे,
पर इस दुनिया में सबसे प्यारी
और न्यारी तो बच्चों की फुलवारी ही होती है
क्योंकि इस फुलवारी की महक
हमारे मन को एक अनूठी ख़ुशी से भर देती है
और मन गाने लगता है!

---------------------------------------------------------

आज सबसे पहले ज़रा मान्या का लिखना तो देखो!




मैं भी ख़ुश हूँ, तुम भी ख़ुश हो! हमें देखकर ख़ुश हैं सारे!


लविज़ा




यह रही पाखी की सारा जहाँ दिखानेवाली अनूठी रंजना!




इशिता एक वीडिओ से माँ को मनाने का फार्मूला बता रही है!






आइए अब बैंकॉक के सफारी वर्ल्ड में आदित्य के साथ घूमते हैं!


-----------------------------------------------






क्या आपको पता है कि चुलबुल के ये मोर क्या बात कर रहे हैं!






आँगन में हम पेड़ लगाएँ, फिर गरमी से इसे बचाएँ!






काले मेघा आओ ना, गरमी दूर भगाओ ना!




भक्तों इनसे नाता जोड़ो, बेचे जाते हैं भगवान!

IMG_1343





मुँह खोलकर दिखाओ कान्हा, क्या तुमने मिट्टी खाई है!






क्या हुआ? आए जब दो पाखी उड़कर!






अब पता करते हैं कि माधव ने नृत्य क्यों किया!






चलो अब इस गाड़ी में बैठकर सैर को चलते हैं!


मैं शुभम्




अगले रविवार को फिर मिलेंगे! तब तक के लिए भी ख़ुशियाँ!

11 टिप्‍पणियां:

सैयद | Syed ने कहा…

बच्चों की एक अपनी अलग अनोखी दुनिया होती है.... मन खुश हो गया है, यहाँ इन सब बच्चों को एक साथ देख कर.


.. और ये चुलबुल ने तो बहुत सुन्दर मयूर बनाये हैं. :)

प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI ने कहा…

बच्चों की यही रचनात्मकता तो हमेशा से प्रेरणा देती रही है | आभार !!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रयास....बच्चों की अनोखी दुनिया का नज़ारा कराती अच्छी चर्चा

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर जी

शुभम जैन ने कहा…

bahut pyari charcha...nanhi pari ko shamil karne ke liye dhanywaad

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सरस पायस पर चर्चा का विचार बहुत अच्छा लगा!
बच्चों के ब्लॉगों की चर्चा तो
यहाँ बहुत पहले से होनी चाहिए थीं!

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

शुभम् जैन जी की टिप्पणी का लिप्यांतरण -

बहुत प्यारी चर्चा ...
(bahut pyari charcha...)
नन्ही परी को शामिल करने के लिए धन्यवाद
(nanhi pari ko shamil karne ke liye dhanywaad)

रंजन ने कहा…

बहुत सुन्दर चर्चा...

नन्हे सुमन सजाने के लिए बधाई..

माधव ने कहा…

बहुत सुन्दर चर्चा , माधव के बारे में चर्चा करने के लिए धन्यवाद

Akshita (Pakhi) ने कहा…

कित्ती प्यारी चर्चा है...मजेदार. 'पाखी की दुनिया ' की चर्चा के लिए विशेष आभार !!

मनोज कुमार ने कहा…

मेहनत से की गई चर्चा!

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति