"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

रविवार, अक्तूबर 10, 2010

माँ होती है सबसे प्यारी : रावेंद्रकुमार रवि की शिशुकविता

माँ होती है सबसे प्यारी


कभी न छोड़े साथ हमारा,
इस दुनिया में सबसे न्यारी!
हमको प्यार बहुत करती है,
माँ होती है सबसे प्यारी!

रावेंद्रकुमार रवि

17 टिप्‍पणियां:

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

सच में माँ होती ही है सबसे प्यारी ......
बहुत सुंदर पंक्तियाँ

मनोज कुमार ने कहा…

इस लघु कविता के गार में इसमें भवनाओं का सागर भरा है।

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

मनोज जी की टिप्पणी में गार को गागर पढ़ने की कृपा करें!

चैतन्य शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर कविता है.... रवि अंकल माँ प्यारी ही होती है....
आपने फोटो भी बहुत अच्छी लगाई है......

राज भाटिय़ा ने कहा…

आप ने बहुत सुंदर कविता लिखी मां पर, सच हे मां जेसा कोई नही, धन्यवाद

हेमंत कुमार ♠ Hemant Kumar ने कहा…

मां के ऊपर इतने कम शब्दों में बहुत कुछ लिख दिया आपने रवि जी----प्यारी रचना।

शरद कोकास ने कहा…

बहुत सुन्दर चित्र और कविता ।

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सुंदर रचना, आप सब को नवरात्रो की शुभकामनायें,

संजय भास्कर ने कहा…

आपने बहुत ही उम्दा रचना लिखी है!

ZEAL ने कहा…

.

माँ - इस शब्द में तो समस्त ब्रम्हांड समाया हुआ है।

.

माधव( Madhav) ने कहा…

बहुत सुंदर पंक्तियाँ

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

नवरात्रों में माँ का प्यार सबको मिले!
--
आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है!
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/10/22.html

रंजन ने कहा…

wonderful!!

उपेन्द्र " the invincible warrior " ने कहा…

बहुत ही अच्छी प्रस्तुति ...


www.srijanshikhar.blogspot.com पर " क्योँ जिन्दा हो रावण "

डॉ. नागेश पांडेय "संजय" ने कहा…

यह कविता मन को छू गई।

प्रदीप सिंह ने कहा…

रवि सर उक्त कविता दिल को छू गर्इ,

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

आप सभी का आभार!

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति