"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

शुक्रवार, अक्तूबर 08, 2010

हर काम पूरे आनंद के साथ करना चाहिए : सरस चर्चा (16)

सबसे पहले आप सबके लिए एक रंग-रँगीला प्यारा-प्यारा उपहार,
जो आपके लिए सजाया गया है
NASA - National Aeronautics and Space Administration
की वेबसाइट पर!
Half-scale model of a NASA F/A-18
ताज़महल के सामने बैठकर यह इतने प्यार से कौन मुस्करा रहा है?
Laviza @ Taj
ज़िंदगी में हर काम पूरे आनंद के साथ करना चाहिए!
इसीलिए छ्प-छप करके नहाना पंखुरी बिटिया के लिए एक मज़ेदार खेल है!
पंखुरी कहती है कि इस छपाछप के बाद सीटी भी बजाना चाहिए!
आप भी करके देखिए, ख़ूब मज़ा आएगा!
चिंगमाई की वाकिंग स्ट्रीट में घूमते हुए आदित्य को मिली पिंजरे में बंद चिड़िया!
यह देखिए आदित्य ने उसके साथ क्या किया!
क्या आपको भी ऐसा नहीं करना चाहिए?
माधव ने अभी से एक अच्छी आदत डाल ली है!
इसे देखकर आप क्या सोच रहे हैं?
क़िताबें हमारी सबसे अच्छी दोस्त होती हैं!
चैतन्य हमको बिल्कुल सच्ची बात बता रहा है!
हमारे लिए तो खेल ही है : कसरत करना!
देखिए तो, कैसे-कैसे कसरत करके बता रही है : अनुष्का!
दीवार पर पेंटिंग करने का मज़ा ही कुछ और है!
देखिए, इशिता को ऐसा करने के बाद कितनी सुंदर हँसी आती है!
अब देखिए, यह रंग-रँगीला घर किसका है!
और अब इसे बनानेवाले को भी देख लीजिए! मगर हँसना नहीं!
पाखी आपको बुला रही है : केले खाने के लिए!
जन्म-दिन किसका और केक काटा किसने?
यह जानने के लिए तो अक्षयांशी के ब्लॉग पर जाना पड़ेगा!
यह रही लविज़ा : ताजमहल के सामने बैठकर मुस्करानेवाली लड़की!
Laviza
महात्मा गांधी नन्हे-मुन्ने दोस्तों को कितना प्यार करते थे!
बाल-दुनिया पर अपनी कविता के द्वारा बता रहे हैं : कृष्णकुमार यादव!
चुलबुल गांधी जी को उनके जन्म-दिन पर क्या उपहार दे रही है!
टॉफी और रुपया, जिन पर उनका फ़ोटो भी बना है!
सरस पायस पर इस बार आपको मिलेंगे ये श्रेष्ठ बालवैज्ञानिक!
----------------------------------------------------
♥♥ रावेंद्रकुमार रवि ♥♥
----------------------------------------------------

11 टिप्‍पणियां:

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर रचना, सब बच्चो को नवरात्रो की शुभकामनायें,बडो को भी

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत अच्छी चर्चा..... सभी प्यारे प्यारे बच्चो को ढेर सारा प्यार

चैतन्य शर्मा ने कहा…

सारे फ्रेंड्स के बारे में अच्छी बातें की आपने.... मुझे शामिल करने के लिए.... धन्यवाद

शुभम जैन ने कहा…

हमेशा की तरह पूरे आनंद के साथ चर्चा पढ़ी....
बहुत सुन्दर चर्चा....

सभी बच्चो को बहुत सारा स्नेह और आशीर्वाद....

Saba Akbar ने कहा…

बहुत सुन्दर चर्चा...
.. सभी बाल वैज्ञानिको को बहुत बहुत बधाई...

मनोज कुमार ने कहा…

हाए रे! कितनी प्यारे-प्यारे बच्चे!
मन करता है उठाकर सबको अपने घर ले आऊं और जी भ कर खेलूं इनके साथ!!
बेहतरीन प्रस्तुति।

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
नवरात्र के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

फ़ुरसत में …बूट पॉलिश!, करते देखिए, “मनोज” पर, मनोज कुमार को!

JHAROKHA ने कहा…

बच्चों के ब्लाग्स की शानदार चर्चा---सभी को नवरात्रि की हार्दिक मंगलकामनायें। सभी बालवैज्ञानिकों को हार्दिक बधाई।

Akshita (Pakhi) ने कहा…

इस चर्चा का तो हम सभी को कित्ता इंतजार रहता है...सबके मन की बातें...अच्छी लगती हैं.

संजय भास्कर ने कहा…

बच्चों के ब्लाग्स की शानदार चर्चा--

माधव( Madhav) ने कहा…

बहुत सुन्दर चर्चा....

रंजन ने कहा…

बहुत प्यारी चर्चा...

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति