"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

सोमवार, मई 09, 2011

बस थोड़ा-सा पढ़ने दो : डॉ. मोहम्मद अरशद ख़ान का बालगीत

बस थोड़ा-सा पढ़ने दो


जो ना जानें लिखना-पढ़ना,
उन सबको अब क़लम पकड़कर,
नई सीढ़ियाँ चढ़ने दो।
बस, थोड़ा-सा पढ़ने दो। 


जो ना पढ़ पाए हैं पुस्तक,
जिन्हें नहीं है अक्षर-ज्ञान,
खेल न पाए खेल-खिलौने,
रूठी है जिनसे मुस्कान।
जिन हाथों में जूठे बर्तन,
उनको स्लेट पकड़ने दो।
बस, थोड़ा-सा पढ़ने दो।


जिन्हें न मिलता प्यार अनूठा,
जिन्हें न करते सभी दुलार,
जिनको क़िस्मत में मिलती है,
पग-पग पर कड़वी फटकार।
अब उनको भी अवसर देकर,
अपनी क़िस्मत गढ़ने दो।
बस, थोड़ा-सा पढ़ने दो।


ना जाने इनमें ही कोई,
छुपा हुआ हो मोती-लाल,
जो अपनी भारत माता का
ऊँचा कर सकता है भाल।
इनको इस अनंत अंबर में,
पंख खोलकर उड़ने दो।
बस, थोड़ा-सा पढ़ने दो।


डॉ. मोहम्मद अरशद ख़ान 
(सभी चित्र : गूगल खोज से साभार)

10 टिप्‍पणियां:

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

ऐसे सुन्दर और मधुर गीत बहुत कम लिखे गये हैं....
इस गीत में न केवल मधुरता है अपितु साक्षरता का सन्देश भी निहित है.
डॉ. मोहम्मद अरशद खान जी ने इस गीत से एक साथ कही उद्देश्यों को पाने की कोशिश की है.
— गीत में कल्याणकारी सर्वहितकारी भावना है.
— गीत में राष्ट्रीयता निहित है.
— गीत बाल रुचि को ध्यान में रखकर लिखा गया है.
— गीत गेय है जिसे बार-बार पढ़ने में भी वाचिक सुख कम नहीं होता.
.........रावेन्द्र जी आपने पाठकों को इस बार भी रसभरी खीर परोसी है. साधुवाद मुँह मीठा करवाने के लिये.

Coral ने कहा…

सच में थोडा सा पढ़ लिख जाये तो जिंदगी कितना सुधर जायेगी......
हाथों में जूठे बर्तन, उनको स्लेट पकड़ने दो। बस, थोड़ा-सा पढ़ने दो।

बहुत सुन्दर -आभार

चैतन्य शर्मा ने कहा…

बहुत अच्छी कविता

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत प्रेरक बाल रचना!

sudhir saxena 'sudhi' ने कहा…

उत्कृष्ट रचना के लिए कवि और सरस पायस दोनों को बधाई.
-सुधीर सक्सेना 'सुधि'

सैयद | Syed ने कहा…

बहुत सुन्दर और प्रेरक गीत,

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर और सार्थक बाल गीत..

Kashvi Kaneri ने कहा…

बहुत प्यारी कविता है

Akshita (Pakhi) ने कहा…

पढाई तो बहुत जरुरी है...सुन्दर बाल गीत.


_____________________________
पाखी की दुनिया : आकाशवाणी पर भी गूंजेगी पाखी की मासूम बातें

मीनाक्षी ने कहा…

कविता के भाव और बच्चों के चित्रों ने दिल को छू लिया... हम इस सन्देश पर अमल कर सकें यही कामना है.

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति