"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

गुरुवार, दिसंबर 16, 2010

बचपन बेटी बन आया : सरस चर्चा (22)

बाल दुनिया में इस बार सुप्रसिद्ध कवयित्री सुभद्राकुमारी चौहान की
एक बहुत बढ़िया कविता प्रकाशित की गई है!

बार-बार आती है मुझको, मधुर याद बचपन तेरी
गया, ले गया, तू जीवन की, सब से मस्त ख़ुशी मेरी।।

पाया मैंने बचपन फिर से, बचपन बेटी बन आया।
उसकी मंजुल मूर्ति देखकर, मुझ में नवजीवन आया।।

आप सब भी बाल दुनिया में जाकर
यह कालजयी कविता "बचपन" अवश्य पढ़िए!


और अब यह देखिए, अनुष्का की मनभावन चित्रकारी!


अपनी दोस्त माही के साथ इशिता की मोहक मुस्कान!


माधव ने १३ दिसंबर को अपने माता-पिता की शादी की सालगिरह मनाई!


नन्हे सुमन पर डॉ. रूपचंद्र शास्त्री मयंक कह रहे हैं!
सुंदर-सुंदर सबसे न्यारा। प्राची का घर सबसे प्यारा।।

तितली बनकर उड़ती पाखी! आओ, ढूँढें कहाँ गई!


चैतन्य ने छायांकन शुरू कर दिया है! भारत के सुंदर दृश्यों को
अपने कैमरे में क़ैद करने के लिए वह भारत आ चुका है!


चुलबुल का कहना है कि ... ... .


स्पर्श ने मोर के चित्र के साथ एक नन्ही-मुन्नी कविता भी बनाई है!

देखो, बनाया है मैंने यह मोर,
केउ केउ का करता
यह शोर।


पिज़्ज़ा खाने का मज़ा लेना है, तो लविज़ा के पास पहुँच जाइए!

Laviza @ Pizza Hut, Jaipur

- और अब आपको पार्थवी को बताना है -
किस गणितज्ञ ने अभाज्य संख्याएँ ज्ञात करने का यह सूत्र बनाया था?

अंत में पढ़ते हैं, सरस पायस पर सजी


नन्ही-सी प्यारी गौरइया,

मेरे घर पर आती है।

बिखरे दानों को चुगती है,

अपनी भूख मिटाती है।


---------------------------------------------------
♥♥ रावेंद्रकुमार रवि ♥♥
---------------------------------------------------

8 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

हिन्दी चिट्ठाकारी में बच्चों के ब्लॉगों की चर्चा
केवल 1-2 व्यक्ति ही तो करते हैं!
--
सरस पायस पर तो बहुत मन से इनकी चर्चा की जाती है!
--
फिर आप अपने मन की टिप्पणी देने में संकोच क्यो करते हैं!

हिंदीब्लॉगजगत ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
शुभम जैन ने कहा…

bahut dino baad aayi bahcho ki ek sundar charhca...

aabhar.

Akshita (Pakhi) ने कहा…

कित्ती प्यारी चर्चा...मैं तो तितली बनकर यहाँ भी आ गई.

आज मैंने अपनी प्रोफाइल फोटो बदल कर नई फोटो लगाई है. आप बताइयेगा कि यह कैसी है.

ZEAL ने कहा…

.

I love reading about lovely little angels.

with love,
Divya

.

माधव( Madhav) ने कहा…

प्यारी चर्चा

सैयद | Syed ने कहा…

कवयित्री सुभद्राकुमारी चौहान की कविता पढवाने का बहुत शुक्रिया...

सभी बच्चों का नए साल में क्या प्लान है... ??

रानीविशाल ने कहा…

हमेशा की ही तरह बहुत मनभावन चर्चा सजाई है मामासाब ....धन्यवाद !
अनुष्का

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति