"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

गुरुवार, दिसंबर 30, 2010

पापा, कैसे करूँ पढ़ाई : डॉ. बलजीत सिंह की बालकविता

------------------------------------------------------
पापा, कैसे करूँ पढ़ाई?
------------------------------------------------------

सूर्य निकलने से पहले ही मम्मी मुझे जगातीं।
मल-मलकर पूरे शरीर को भली-भाँति नहलातीं।
रगड़-रगड़ मेरे शरीर को, उसमें गरमी लातीं।
जब बालों में कंघी करतीं, धीरे-धीरे गातीं।
सुबह-सुबह वह मुझे खिलातीं रोज़ पराँठा ढाई।
पापा, कैसे करूँ पढ़ाई?


दादाजी जब देखो मुझ पर हुक्म चलाते रहते।
छोटू को "शू-शू" करवाने को मुझसे सब कहते।
घंटी बजने पर सब कहते, "देख, कौन आया है?"
सच कहता हूँ, बहुत नाक में मेरी दम आया है।
जूते-चप्पल मुझसे ही ढुँढवातीं चाची-ताई।
पापा, कैसे करूँ पढ़ाई?

------------------------------------------------------
डॉ. बलजीत सिंह
------------------------------------------------------ 
------------------------------------------------------

7 टिप्‍पणियां:

मंजुला ने कहा…

सुन्दर कविता ...मज़ा आ गया ........


नव वर्ष की शुभकामनाये...

घनश्याम मौर्य ने कहा…

अच्‍छी कविता हैा विनोद का पुट तो है ही साथ ही चित्रात्‍मकता भी हैा कविता पढकर मुझे भी मॉं द्वारा नहलाये जाने और कालबेल बजने पर घर का फाटक खुलवाये जाने जैसी बचपन की घटनायें याद आ गईंा सुन्‍दर रचना के लिए रचनाकार और प्रस्‍तुतकर्ता दोनों को बधाईा

डॉ. नागेश पांडेय "संजय" ने कहा…

बालगीत बाल मन के अनुकूल है . शायद आपको पता हो कि मैंने डा. बलजीत सिंह जी की नयी पुस्तक कि भूमिका में उन्हें बाल-मन जीत सिंह की संज्ञा दी है . वे बाल मन को जीत लेते हैं . बधाई आपको और उन्हें भी , साथ ही सरस पायस के सभी पाठकों को नए वर्ष की शुभकामनायें . http://abhinavsrijan.blogspot.com

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर कविता जी,ऎसा तो सभी बच्चो के संग होता हे भाई.
बच्चे कमरे का दरवाजा अंदर से बंद कर के पढाई करो, या फ़िर छत पर धुप मे बेठ कर, लेकिन घर वालो को बता कर.... नही तो होगी जोर दार पिटाई

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

बालमन और सरस पायस के अनुरूप सुन्दर रचना!
आपको नव वर्ष मंगलमय हो!

खबरों की दुनियाँ ने कहा…

सच है , बच्चों को ऐसे ही तंग करते हैं हम सब - अच्छी पोस्ट , नववर्ष की शुभकामनाएं । "खबरों की दुनियाँ"

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाए...


*काव्य-कल्पना*:-दर्पण से परिचय

*गद्य सर्जना*:-पुराने साल की कुछ यादे

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति