"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

मंगलवार, फ़रवरी 09, 2010

कह रहीं बालियाँ गेहूँ की : डॉ॰ नागेश पांडेय संजय की एक बालकविता

कह रहीं बालियाँ गेहूँ की
मधुर कान में काली कोयल गाए मस्त मल्हार!
बाँट रहे हैं फूल सभी को ख़ुशबू का उपहार!
पेड़ों ने पहनी है कोमल-नई-मनोहर वर्दी!
भीनी-भीनी धूप निकलने लगी कम हुई सर्दी!
लदे बौर से पेड़ आम के मस्त हवा संग झूमें!
सुध-बुध छोड़ तितलियाँ सरसों पर इठलाकर घूमें!
नई बालियाँ गेहूँ की कह रहीं लगाकर ठुमके -
‘उछलो, कूदो, थिरको, नाचो, आए दिन फागुन के!’
डॉ॰ नागेश पांडेय संजय

5 comments:


हरि ने कहा…
अति सुंदर बालगीत। हमें भी फाल्‍गुन की सुध आई। बधाई।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…
सुन्दर चित्रों के माध्यम से, रंग बिखेरे होली के। फागुन आया, संग में लाया, मधुर तराने होली के। सुन्दर बाल गीत में, सुन्दर-सुन्दर रंग भरे हैं। वाह-वाह लिखने को, सतरंगी अक्षर उभरे हैं।।

seema gupta ने कहा…
" jitne sundr prakrtik chitr, utne hi sundr shabd....dil ko bha gye...behd mnmohak" regards

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…
ब्लॉगर creativekona ने कहा… भाई रावेन्द्र जी , डा.देशबंधु जी के साथ ही डा .नागेश जी का बालगीत ,इनके साथ ही आपके द्वारा खींचे गए फोटोग्राफ्स की जुगलबंदी ....कुल मिलाकर मन खुश हो गया .आपके कवि,लेखक से तो परिचित था .आज आपके अन्दर बैठे डिजाइनर से भी परिचय कर लिया .बहुत बहुत बधाई आपको एवं डा.देशबंधु और डा.नागेश जी को . हेमंत कुमार

अरविंद राज ने कहा…
होली के प्राकृतिक रंगों से रंगी इस कविता ने हृदय को सराबोर कर दिया। उत्तम रचना के प्रकाशन हेतु सरस पायस को बधायी।

12 टिप्‍पणियां:

लवली कुमारी / Lovely kumari ने कहा…

चित्र सुन्दर हैं ...डेस्कटॉप में लगाने लायक

रचना भी अच्छी है.

sangeeta swarup ने कहा…

खूबसूरत चित्रों के साथ खूबसूरत कविता....रंग ही रंग खिल गए..

निर्मला कपिला ने कहा…

वाह होली के प्राकृतिक रंगों से रंगी बहुत सुन्दर कविता तस्वीरें अपनी छठा बिखेर रही हैं

महावीर ने कहा…

सुन्दर शब्दों के साथ अनुपम चित्रों की छटा देखने योग्य हैं. बहुत सुन्दर बाल गीत. बधाई.
महावीर शर्मा

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

मेल से भेजा गया संदेश -

bahut sundar geet hai
aur bahut sundar presentation bhi.
aapko aur nagesh ji ko bahut bahut badhai....

dr.desh bandhu"shahjahanpuri"

मनोज कुमार ने कहा…

ओह! क्या ख़ूब! सुंदर चित्र .. सुंदर गीत।

दीपक 'मशाल' ने कहा…

wo geet yaad aa raha hai...'angna me aayi bahar....aisa mausam dekha pahlee baar.. koyal kooke-kooke gaaye malhaar....'
bahut sundar photo nikale..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

डॉ॰ नागेश पांडेय संजय का बालगीतःकह रहीं बालियाँ गेहूँ कीः

एक सुन्दर बालगीत तो है ही लेकिन

रवि जी!

आपने सुन्दर चित्रों से इसकी शोभा में चार चाँद लगा दिये हैं।

संपादक : बालप्रहरी ने कहा…

क्या बात है! मजा आ गया!
रचनाकार और छायाकार दोनों का कार्य सराहनीय है ।

Rekhaa Prahalad ने कहा…

बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति!

एमाला ने कहा…

बच्चे निसंदेह फ़रिश्ता होते हैं.आपने बहुत अच्छा संसार रचा है.हमने भी अपने बच्चों के बहाने इन मासूमों के लिए एक दुनिया बनाने की कोशिश की है.आपका स्वागत है!

ज्योति सिंह ने कहा…

बहुत प्यारी रचना रावेन्द्र जी ,मिटटी की खुशबू ,लहलहाते फूल पौधे और लहराती गेहूं की बालियाँ और साथ में आपकी शब्दों की सुन्दरता ,सब मिलकर मन मोह लिए ,

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति