"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

शनिवार, जनवरी 29, 2011

सारा दूध नहीं दुह लेना : डॉ. मयंक की शिशुकविता

----------------------------------------------------------
सारा दूध नहीं दुह लेना
----------------------------------------------------------

----------------------------------------------------------
मेरी गइया बहुत निराली,
सीधी-सादी, भोली-भाली।

उसका बछड़ा बहुत सलोना,
प्यारा-सा वह एक खिलौना।

मैं जब गइया दुहने जाता,
वह "अम्माँ" कहकर चिल्लाता।

सारा दूध नहीं दुह लेना,
मुझको भी कुछ पीने देना।

थोड़ा ही ले जाना भइया,
सीधी-सादी मेरी मइया।
----------------------------------------------------------

----------------------------------------------------------
डॉ. रूपचंद्र शास्त्री मयंक
----------------------------------------------------------

6 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

अरे वाह!
मुझे पता ही नहीं चला और मेरी कविता सरस पायस पर छप भी गई!
--
आपका बहुत-बहुत आभार!

P.N. Subramanian ने कहा…

इतने सरल शब्दों में इतनी गंभीर बात! सुना है गौ माता अपने बच्चे के लिए आवश्यक दूध रोक लेती है तब लालची आदमी बछड़े को दूध पीने देता है और कुछ ही क्षणों में उसे अलग भी कर देता हैताकि बचा खुचा भी दुह सके.

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर वाल कविता जी, धन्यवाद

सैयद | Syed ने कहा…

बहुत सुन्दर कविता...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

इस सुन्दर पोस्ट की चर्चा बाल चर्चा मंच पर भी तो है!
http://mayankkhatima.uchcharan.com/2011/02/30-33.html

गिरिजा कुलश्रेष्ठ ने कहा…

बहुत प्यारी कविता है ।

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति