"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

शनिवार, जनवरी 15, 2011

उमंगों और पतंगों के त्योहार : सरस चर्चा (२५)

हमारे देश के कोने-कोने में जितने त्योहार मनाए जाते हैं, 
उतने शायद ही कहीं और मनाए जाते हों! 
देश के अलग-अलग प्रदेशों में मनाए जानेवाले ऐसे तीन त्योहार 
जनवरी में एक साथ आते हैं! मकर सक्रांति, पोंगल और लोहड़ी! 

चैतन्य ने अपने ब्लॉग से सभी को 

इन प्यारे-प्यारे त्योहारों के लिए हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं! 

हैप्पी लोहड़ी..... हैप्पी संक्रांति..... हैप्पी पोंगल..... 





माधव ने भी अपने ब्लॉग से शुभकामनाएँ दी हैं!



अरे बाबा, हम शिमला में नहीं अपने घर में ही हैं...! ही-ही-ही! 
पंखुरी कुछ ऐसे ले रही है अपने चाचू और बुआ के साथ ठंड का मज़ा!


और इधर ठंड के स्पर्श से खड़खड़ाकर स्पर्श का तो दाँत ही टूट गया! 




लविज़ा भी परेशान है!
ओह.… आजकल तो कुछ ज्यादा ही ठंड पड़ रही है! 
कितने सारे तो गरम कपड़े पहनने पड़ते हैं! 
मुझे ना इत्ते भारी-भारी कपड़े पहनना बिल्कुल पसंद नहीं…
पर मम्मा भी ना…. टोपा भी पहनो… थर्मल भी... स्वेटर भी… 
और ना जाने क्या क्या…

Laviza

पाखी के लिए एक और कविता रची गई है, डॉ. नागेश द्वारा!


आदित्य ने इस बार चंडीगढ़ के "छतबीर जू" की सैर की!
यहाँ का दरियाई घोड़ा बहुत मस्त है... 
आदि ने बहुत क़रीब से देखा...  


इस बार सबसे अधिक चर्चा में रहा : नन्हे सुमन का विमोचन!


सुबह-सवेरे इसे देखकर 
खिल उठता है मन। 
सभी प्रफुल्लित होकर करते 
इसका अभिनंदन। 
-- अभिनव सृजन पर जाड़े की धूप का मनमोहक स्वागत कर रहे हैं --
डॉ. नागेश पांडेय संजय

अंत में सरस पायस पर पढ़िए मेरा नया गीत!
----------------------------------------------------------------------------
लेकिन मुझसे करता प्यार! 
----------------------------------------------------------------------------
----------------------------------------------------------------------------
मेरा पिल्ला है शैतान,
लेकिन मुझसे करता प्यार!

चुहिया और गिलहरी को यह 
दूर तलक दौड़ाता है! 
पर छोटा है अभी उन्हें यह 
पकड़ न बिल्कुल पाता है! 

----------------------------------------------------------------------------
रावेंद्रकुमार रवि
----------------------------------------------------------------------------
चित्र में हैं : सलोनी राजपूत और उसका पिल्ला
----------------------------------------------------------------------------

10 टिप्‍पणियां:

डॉ. नागेश पांडेय "संजय" ने कहा…

चर्चा के लिए आपको अछोर आभार । http://abhinavsrijan.blogspot.com/

राज भाटिय़ा ने कहा…

सुंदर चर्चा के लिये धन्यवाद

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

बहुत सुन्दर इन्दधनुषा चर्चा लगाई है आपने!
उत्तरायणी की शुभकामनाएँ!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

बहुत सुन्दर इन्दधनुषी चर्चा लगाई है आपने!
उत्तरायणी की शुभकामनाएँ!

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर चर्चा ....चैतन्य की पोस्ट को जगह देने के लिए आभार...... शुभकामनाएं आपको भी

माधव( Madhav) ने कहा…

बहुत सुंदर चर्चा

: केवल राम : ने कहा…

बहुत सुंदर चर्चा है ...आपके ब्लॉग पर आकर बहुत कुछ सीखने को मिला ...खटीमा में आपके साथ बिताये हुए पल जिन्दगी की अच्छी यादों में शामिल हो गए ..और महत्वपूर्ण बन गया जिन्दगी का एक और पल ....आपका आभार

सैयद | Syed ने कहा…

वाह !

शुभम जैन ने कहा…

rang birangi patango si ithlati balkhati rang birangi charcha....

aabhar.

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

उत्सवी बेला में खूबसूरत चर्चा...बधाई.

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति