"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

सोमवार, जनवरी 31, 2011

सारा दूध नहीं दुह लेना : सरस चर्चा (२७)

♥♥ आज सबसे पहले करते हैं यह प्रार्थना ♥♥ 

इतनी शक्ति हमें देना दाता, मन का विश्वास कमजोर हो ना 

हम चलें नेक रस्ते पे हमसे, भूल कर भी कोई भूल हो ना! 

- चैतन्य का कहना है -

मेरा फोटो
मेरा फोटो

यह सुंदर सी प्रार्थना तो आपने कई बार सुनी होगी! 
आज फिर  गणतंत्र दिवस पर  ईश्वर से हम सब यही प्रार्थना  करें!

और अब पढ़ते हैं

डॉ. रूपचंद्र शास्त्री मयंक की यह प्यारी-सी शिशुकविता 

सारा दूध नहीं दुह लेना,

मुझको भी कुछ पीने देना। 

  


जी करता बन कर दस्ताने 
हाथों में उनके चढ़ जाऊँ!

मन ऐसा क्यों करता है? 
यह जानने के लिए बाल-मंदिर चलते हैं! 

वहाँ जाने-माने कवि दिविक रमेश की कविता छपी है!


यह देखिए स्पर्श ने अपने स्कूल के प्रोजेक्ट कार्य के लिए 
आलू महाशय को कितने सुंदर ढंग से सजाया है!


पंखुरी के पास एक नहीं और भी कई खिलौने हैं! 
क्या आपको देखने हैं?


पाखी की बहन तन्वी तीन महीने की हो गई है!
क्या आपके मन में इसकी इस मुस्कराहट को देखकर 
कोई मुस्कराती हुई कविता जन्म ले रही है? 


 अनुष्का की माँ ने भी इस बार एक बहुत बढ़िया गीत रचा है!

झक पक छुक छुक
झक पक छुक छुक
रेल चली भाई, रेल चली 


अभिनव सृजन पर प्रकाशित 
डॉ.नागेश पांडेय 'संजय'
का रोबोट पर रचा बालगीत भी मनभावन है!


ज़रा यह भी देखें कि माधव किस फ़िल्म के बारे में बता रहा है! 


यह आभार समूचे राष्ट्र की ओर लविज़ा व्यक्त कर रही है!

Laviza

अंत में पढ़िए "सरस पायस" पर प्रकाशित मेरा यह गीत!

उन्हें करेंगे हरदम याद 


आशाओं के फूल खिलाती,
पूरी होकर नई मुराद!
दूर गगन तक जाकर गूँजे,
हम सबका जोशीला नाद!
उन्हें करेंगे हरदम याद! 

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
♥♥ रावेंद्रकुमार रवि ♥♥
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------

7 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

बच्चों के ब्लॉगों की करीने से सजी सरस चर्चा करने के लिए सरस पायस के सम्पादक रानेंद्रकुमार रवि का आभार!

डॉ. नागेश पांडेय "संजय" ने कहा…

सुंदर ...मनभावन...रोचक .बधाई हो बधाई . अच्छी चर्चा लगाई ।

mrityunjay kumar rai ने कहा…

सरस चर्चा करने के लिए सरस पायस के सम्पादक रानेंद्रकुमार रवि का आभार

Akshita (Pakhi) ने कहा…

कित्ती प्यारी चर्चा..मेरी सिस्टर की चर्चा के लिए लिए आभार और प्यार. बस ऐसे ही अपना प्यार देते रहिएगा.

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर धन्यवाद

चैतन्य शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर चर्चा ..... मुझे शामिल करने के लिए आभार

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति