"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

रविवार, जनवरी 09, 2011

आज है डॉ. मयंक के "नन्हे सुमन" का विमोचन समारोह

ब्लॉगिंग की दुनिया में
डॉ. रूपचंद्र शास्त्री "मयंक" को कौन नहीं जानता!
इसलिए उनके बारे में 
और कुछ न कहते हुए, उनकी इस पुस्तक के 
विमोचन-समारोह में सम्मिलित होने के लिए जा रहा हूँ!


तब तक आप इस संकलन में प्रकाशित
उनकी इस शिशुकविता का आनंद लीजिए! 
----------------------------------------
चले देखने मेला
----------------------------------------
हाथी दादा सूँड उठाकर
चले देखने मेला! 

बंदर मामा साथ हो लिया
बनकर उनका चेला!
चाट-पकौड़ी ख़ूब उड़ाई
देख चाट का ठेला!
बहुत मज़े से फिर दोनों ने
जमकर खाया केला!

----------------------------------------
डॉ. रूपचंद्र शास्त्री "मयंक"
----------------------------------------

8 टिप्‍पणियां:

Mrityunjay Kumar Rai ने कहा…

best wishes for him, may the book be a bestsellers

Shubham Jain ने कहा…

badhai...

डॉ. नागेश पांडेय संजय ने कहा…

डा. रूप चन्द्र शास्त्री जी को मेरी अछोर बधाइयाँ . विभागीय कार्यों के चलते मैं उनके आयोजन में नहीं आ सका . उनकी पुस्तक बाल साहित्य जगत में नवीन मानक निरुपित करे औए बालकों की सच्ची मित्र बनकर उभरे , यही कामना है.

राज भाटिय़ा ने कहा…

शुबह्कामनाऎ ओर बहुत सी बधाई जी

Chaitanyaa Sharma ने कहा…

आदरणीय मयंक अंकल को बधाई और शुभकामनाये.....

बेनामी ने कहा…

सरस पायस पर मेरी पुस्तक नन्हे सुमन के विमोचन और उसमें छपी बाल कविता को प्रकाशित करने के लिए आभार!
--
विमोचन के कार्यक्रम और ब्लॉगर्स सम्मेलन का सफल संचालन करने के लिए रावेंद्रकुमार रवि जी आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

मयंक दादा जी को ढेर सारी बधाई. रवि अंकल ने तो कुछ गीत यही पढ़ा दिए..पर हमें भी यह पुस्तक पढने के लिए भेजिएगा.

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति