"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

रविवार, फ़रवरी 20, 2011

सचमुच बहुत मज़ा आएगा : सरस चर्चा (२९)

इस बार की सबसे धमाकेदार ख़बर है
पाखी द्वारा भारत के पहले समुद्री-उड़नयान (सी-प्लेन)
में बैठकर हैवलॉक द्वीप की शानदार यात्रा!



आप भी देखिए समुद्र-तल पर उतरता सी-प्लेन,
जिसमें बैठी है अक्षिता पाखी, 
अपनी बहन तन्वी और मम्मी-पापा के साथ!



दूसरी धमाकेदार ख़बर यह है कि 
इस बार का क्रिकेट विश्व कप लविज़ा ही जीतेगी!

LavizaLavizaLaviza

अब आप जो हृदयाकार देख रहे हैं,
उसमें छुपा है चैतन्य की अध्यापिका सुश्री मैलिनी का प्यार!



मेरी आँखें नींद से बोझिल होती हैं,
पर उनमें नींद क्यों नहीं आती?
आइए सुलझाते हैं चलकर लाडली की समस्या!



ये सब उपहार अनुष्का को मिले हैं
या इन सारे उपहारों को मिला है एक बहुत सुंदर उपहार!



बाल-मंदिर में डॉ. बानो सरताज़ की कविता पढ़कर
सचमुच बहुत मज़ा आएगा!



बाल-मंदिर में नंदन के पूर्व संपादक 
जय प्रकाश भारती की भी बहुत बढ़िया कविता छपी है! 
नन्हे-नन्हे, बड़े-बड़े भी, 
मखमल-जैसे पीले फूल. 
गेंदा इनको कहते हैं, 
इनमें कहीं न होता शूल.



रुद्र अपने परिवार के बहुत से लोगों से मिलवा रहा है!
अंशुमन भइया और अंजलि दीदी के साथ!



और अब देखिए बादाम-मिल्क के साथ
अक्षयांशी का यह ख़ूबसूरत स्टाइल!



पिछले सप्ताह डॉ. रूपचंद्र शास्त्री मयंक की 
यह कविता भी बहुत चर्चित रही!

देख इसे आँगन में, 
शिशु ने बोला औआ-औआ। 
खुश होकर के काँव-काँवकर, 
चिल्लाया है कौआ।। 

----------------------------------------------------------------------------------------------------
इस बार "सरस पायस" ने अपनी एक और प्यारी बहना 
"सोनमन (मीशू)" से मिलवाया है, 
उसके जन्म-दिवस पर, मेरी इस प्रभाती के साथ! 
---------------------------------------------------------------------------------------------------- 
उठ जाओ गुड़िया रानी
----------------------------------------------------------------------------------------------------
----------------------------------------------------------------------------------------------------
आई है भोर सुहानी,
उठ जाओ गुड़िया रानी!
---------------------------------------------------------------------------------------------------- 
और यह भी जान लेते हैं कि 
"सरस पायस" का मन महककर कैसे फूला? 
----------------------------------------------------------------------------------------------------
महक मेरा मन फूला
----------------------------------------------------------------------------------------------------
मुझे प्यार है फूलों से, ये 
मुझसे करते प्यार!
झुलाऊँ इनको झूला!
झुलाऊँ इनको झूला!
----------------------------------------------------------------------------------------------------
----------------------------------------------------------------------------------------------------
 रावेंद्रकुमार रवि 
--------------------------------------------------------------------------------------------------

8 टिप्‍पणियां:

अनाम ने कहा…

"इस बार का क्रिकेट विश्व कप लविज़ा ही जीतेगी!"

पॉल बाबा की भविष्यवाणी :)

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर प्यारी चर्चा......

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

सरस चर्चा-29 बहुत बढ़िया रही!
नन्हे सुमन को सम्मिलित करने के लिए आभार!

राज भाटिय़ा ने कहा…

"इस बार का क्रिकेट विश्व कप लविज़ा ही जीतेगी!"
पक्का हमारी शुभकामाऎ, चर्चा मस्त रही जी

Shubham Jain ने कहा…

bahut sundar charcha...

sabhi bachcho ko dher sara payar...

KK Yadav ने कहा…

लगता है सी-प्लेन की पाखी की यात्रा सभी को पसंद आई...लाजवाब !!..बेहतरीन चर्चा.

Mrityunjay Kumar Rai ने कहा…

"इस बार का क्रिकेट विश्व कप लविज़ा ही जीतेगी!"
पक्का
हमारी शुभकामाऎ,
चर्चा मस्त रही जी

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

प्यारी चर्चा...मुझे पता था, यह सी-प्लेन आप सभी को बहुत पसंद आयेगा...जल्दी से घूमने के लिए अंडमान आ जाइये.

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति