"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

बुधवार, दिसंबर 14, 2011

भौंरे जी : रावेंद्रकुमार रवि का बालगीत


भौंरे जी !



भौंरे जी, मुस्काते जी ! 
कली देख रुक जाते जी ! 
चूस-चासकर मधुरस उसका 
अपने घर को जाते जी !

भौंरे जी, मुस्काते जी !
मधुरिम गीत सुनाते जी !
पंख पसारे फूल-फूल पर
गुन-गुनकर मँडराते जी !

भौंरे जी, मुस्काते जी !
फूलों से बतियाते जी !
चूम-चूम सुंदर मुख उनका
अपना मन हर्षाते जी !

भौंरे जी, मुस्काते जी !
चिड़िया से डर जाते जी !
ढूँढ-ढाँढकर कली अधखिली
झट उसमें छुप जाते जी ! 


रावेंद्रकुमार रवि 

11 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति पर हमारी बधाई ||

terahsatrah.blogspot.com

Chaitanyaa Sharma ने कहा…

बहुत अच्छी लगी कविता ...

G Maurya ने कहा…

सुन्‍दर बाल भ्रमर-गीत लिखा है आपने। पहली बार भौंरे पर बालकविता पढ़ रहा हूँ।

दिलबागसिंह विर्क ने कहा…

आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
कृपया पधारें
चर्चा मंच-729:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

बहुत सुन्दर बाल कविता।
चित्र भी बहुत अच्छा लगाया है भँवरे का!

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

नीरज कुमार ने आपकी पोस्ट " भौंरे जी : रावेंद्रकुमार रवि का बालगीत " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

बड़ी मजेदार कविता है... बच्चों के मन को जरूर हर्षाएगी...

नीरज कुमार द्वारा सरस पायस के लिए १४ दिसम्बर २०११ ८:१५ अपराह्न को पोस्ट किया गया

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति...

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सुंदर बालगीत,...बच्चों को निश्चय ही पसंद
आएगा,....सुंदर पोस्ट के लिए बधाई.........

मेरी नई पोस्ट के लिए काव्यान्जलि मे click करे

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

कालजयी गीतों में शामिल मानता हूँ इस गीत को। साधुवाद आपकी रचनाधर्मिता को!

Entertaining Game Channel ने कहा…

This is Very very nice article. Everyone should read. Thanks for sharing. Don't miss WORLD'S BEST Train Games

Sahi Asha ने कहा…

Online Books Store http://sahiasha.com/ making us the best books Writing in India to Read books Online, Buy books Online, Online books shopping site with good price, make online book purchase.
Online Books Store

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।