"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

बुधवार, जुलाई 07, 2010

सरस पायस को मिला स्वर्ण पदक : विज्ञान प्रयोग प्रदर्शन में पुरस्कृत


-------------
उक्त शुभसूचना के बाद यह ख़ुशख़बर भी आपको अच्छी लगेगी
और मेरी तरह ही आपके मन को भी ख़ुशी से भर देगी!
-------------

-------------
"सरस पायस" को "विज्ञान प्रयोग प्रदर्शन" में
अपने विद्यालय (ग्रेस मॉडर्न स्कूल, सीतापुर (उ.प्र.)) में
प्रथम स्थान प्राप्त हुआ!
-------------

-------------
श्रेष्ठ प्रदर्शन करने पर
"सरस पायस" को "स्वर्ण पदक"
से विभूषित किया गया!
-------------

-------------
उनके प्रयोग "पवन चक्की द्वारा ऊर्जा उत्पादन" को
सर्वश्रेष्ठ घोषित किया गया!
-------------
Windmill at Sunset Near Colfax Washington
-------------
मेरे पास "सरस पायस" द्वारा बनाए गए प्रतिमान (मॉडल)
का फ़ोटो तो उपलब्ध नहीं है,
पर विभिन्न देशों में प्रयुक्त की जानेवाली
कुछ पवन चक्कियों (Windmills) के फ़ोटो आपकी जानकारी के लिए
प्रस्तुत कर रहा हूँ!
-------------
-------------
पवनचक्कियों के बारे में
अधिक जानकारी के लिए Windmill पर क्लिक् कीजिए!
-------------
अब मुझे यह फ़ोटो मिल गया है,
जिसमें "सरस पायस" अपने साथियों के साथ
अपने मॉडल का प्रदर्शन कर रहे हैं!
-------------
-------------
२९ सितंबर २०१० को इस पोस्ट का अवलोकन करने के उपरांत
"सरस पायस" के सर श्री राजा लैंबर्ट द्वारा यह फ़ोटो
मुझे मेल द्वारा उपलब्ध कराया गया!
उनका हार्दिक आभार!
-------------

11 टिप्‍पणियां:

AlbelaKhatri.com ने कहा…

बहुत बहुत बधाई बन्धु !

वाह ! तबीयत ख़ुश हो गई............लगे रहो इसी भान्ति...........मंज़िलें और भी हैं.......

राज भाटिय़ा ने कहा…

हमारी तरफ़ से भी बहुत बहुत बधाइ हो जी

sidheshwer ने कहा…

बधाई हो बधाई

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सरस पायस के साथ-साथ आपको भी बधाई!

रंजन ने कहा…

बहुत बधाई...

निर्मला कपिला ने कहा…

सरस पायस को बहुत बहुत बधाई और आशीर्वाद।

शुभम जैन ने कहा…

बहुत बहुत बधाई...

लविज़ा | Laviza ने कहा…

बहुत बहुत बधाई :)

अरुणेश मिश्र ने कहा…

बधाई ।

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

लिप्यांतरण के साथ मेल द्वारा प्राप्त संदेश -

बहुत-बहुत बधाई!
bahut bahut badhai.!

ख़ूब आगे बढ़ो!
khub aage barho!

सुशील शुक्ल
sushil shukla

गिरिजा कुलश्रेष्ठ ने कहा…

इन उपलब्धियों के लिये सरस को असीम शुभ-कामनाएं ,स्नेह व बधाई ।साथ ही इन पंक्तियों को सदा याद रखने की प्रेरणा भी-----
श्रान्त भवन में टिक कर रहना ,है यह मेरी चाह नही ।
किन्तु पहुँचना उस मंजिल तक ,जिसके आगे राह नही ।

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति