"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

बुधवार, जुलाई 14, 2010

मेधावी सिंह के चित्र के साथ रावेंद्रकुमार रवि का नया शिशुगीत

मुझसे थोड़ी बात करो


प्यारी तितली, पंख हिलाकर
रंगों की बरसात करो!


बैठो आकर मेरे सिर पर,
दर्पण में मैं देखूँगी!
मैं भी नाचूँ, तुम भी नाचो,
मन में ख़ुशियाँ भर लूँगी!


नहीं बोलती हो तुम कुछ क्यों,
मुझसे थोड़ी बात करो!




चित्रकार : मेधावी सिंह और गीतकार : रावेंद्रकुमार रवि

15 टिप्‍पणियां:

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत प्यारी लगी यह प्यारी सी बाल कविता. धन्यवाद

Jandunia ने कहा…

शानदार पोस्ट

मनोज कुमार ने कहा…

तितलियों के रंग की तरह मनभावन कविता।

रंजन ने कहा…

बहुत सुन्दर चित्र...

Shri"helping nature" ने कहा…

नहीं बोलती हो तुम कुछ क्यों,
मुझसे थोड़ी बात करो!
shaandar prastuti

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सुन्दर चित्र और प्यारा शिशु गीत

Akshita (Pakhi) ने कहा…

प्यारी सी तितली और प्यारी सी कविता...अच्छी लगी.
_____________________
पाखी की दुनिया के एक साल पूरे

Chinmayee ने कहा…

प्यारी तितली तुम मुजे बहोत अच्छी लगी..... मेधावी तुम्हारी तितालिके रंग बहोत सुन्दर है !

_______________

My new post - Father Day card and Cow boy

sajid ने कहा…

बहुत सुन्दर...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत-बहुत बधाई!
आपकी चर्चा तो यहाँ भी है-
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/07/2010.html

Tafribaz ने कहा…

वाह वाह क्या बात है...

Tafribaz ने कहा…

वाह वाह क्या बात है...

Tafribaz ने कहा…

वाह वाह क्या बात है...

Tafribaz ने कहा…

वाह वाह क्या बात है...

सैयद | Syed ने कहा…

मेधाजी ने चित्रकारी तो बहुत सुन्दर की है... और आपने उसे शब्द देकर चार चाँद लगा दिए..

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति