"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

गुरुवार, सितंबर 02, 2010

मेरा मीत : रावेंद्रकुमार रवि का नया शिशुगीत


♥♥ मेरा मीत ♥♥

सबके मन को लेता जीत,
मेरा कान्हा, मेरा मीत!



मुरली की धुन मधुर बजाकर,
ख़ूब सुनाता मीठे गीत!

मेरा कान्हा, मेरा मीत!

जो भी साथ खेलता इसके,
उसकी हरदम होती जीत!

मेरा कान्हा, मेरा मीत!

माखन इसे बहुत भाता है,
सबसे अच्छी इसकी प्रीत!

मेरा कान्हा, मेरा मीत!

रावेंद्रकुमार रवि
------------------------------------------------------------------------------------
(चित्र में : सरस पायस और गरिमा रुबाली, जब वे नर्सरी में पढ़ते थे, 1999)
----------------------
------------------------------------------------------------------------------------

11 टिप्‍पणियां:

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

जन्माष्टमी के अवसर पर सुंदर शिशुगीत ।

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत उम्दा!

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये

राजभाषा हिंदी ने कहा…

बहुत अच्छा शिशुगीत!
हिन्दी भारत की आत्मा ही नहीं, धड़कन भी है। यह भारत के व्यापक भू-भाग में फैली शिष्ट और साहित्यिक भषा है।

Akshita (Pakhi) ने कहा…

श्री कृष्ण-जन्माष्टमी पर सुन्दर प्रस्तुति...ढेर सारी बधाइयाँ !!
________________________
'पाखी की दुनिया' में आज आज माख्नन चोर श्री कृष्ण आयेंगें...

निर्मला कपिला ने कहा…

सुन्दर गीत। आपको श्री कृष्ण जन्म आष्टमी की मंगल कामनायें

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर गीत ....कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएं

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर वाल गीत जी, धन्यवाद
कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

मनोज कुमार ने कहा…

सरस गीत!
आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को श्री कृष्ण जन्म की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (ਦਰ. ਰੂਪ ਚੰਦ੍ਰ ਸ਼ਾਸਤਰੀ “ਮਯੰਕ”) ने कहा…

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर यह शिशुगीत बहुत अच्छा लगा!

डॉ. देशबंधु शाहजहाँपुरी ने कहा…

बहुत सुन्दर शिशु गीत और सुन्दर चित्र है। आपको सुन्दर सम्पादन और जन्माष्टमी की बधाई

Ashish (Ashu) ने कहा…

अति सुंदर रचना जी धन्यवाद

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति