"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

बुधवार, सितंबर 29, 2010

बेटी की मुस्कान बहुत प्यारी होती है : सरस चर्चा (15)

आज मैं आपको मिलवाने जा रहा हूँ,
कुछ प्यारी-प्यारी बेटियों से -
यह भी सच मानते हुए कि
बेटियों की मुस्कान इस दुनिया में सबसे अच्छी होती है!
-------------------------------------------------------------
यह है : सरस पायस की बहन : ओजस्वी रुनझुन!
सरस पायस का कहना है -

हर पल मस्ती से भरकर,
बगिया के सुंदर-सुंदर,
फूलों की तरह सरसना!
तुम हर पल हँसती रहना!


यह है : पंखुरी, जो अपने-जैसी सभी बेटियों को शुभकामनाएँ दे रही है!


अक्षिता पाखी ने अपने इस चित्र में किस-किसको बनाया है?
ज़रा पहचानिए तो ... ... ... ... .


अनुष्का के मस्ती के दिन कैसे-कैसे शुरू हुए?
यह जानने के लिए तो उसके कुछ और फ़ोटो भी देखने होंगे!


अब देखते हैं कि नन्ही परी इशिता की क्षमा-वाणी
हम सबसे क्या विनती कर रही है?


26 सितंबर का दिन बेटियों के लिए बहुत ख़ास है!
इस दिन पूरी दुनिया में "बालिका-दिवस" मनाया जाता है!
इस बारे में और अधिक जानने के लिए मिलिए मानसी से!


नन्हे-मुन्नों की नादानियों को आप हँसी में उड़ाते हैं!
उनकी शरारतों को बचपना कहकर टाल देते हैं!
पर आप भूल रहे हैं कि धीरे-धीरे वे आपको उँगलियों पर नचाने लगे हैं!
--
लविज़ा बता रही है अपने-जैसे नन्हे-मुन्नों के बारे में छ: रहस्य!



हम भी बनाने लगे कहानी : कहना है अक्षयांशी का!
चलिए सुनते हैं चलकर उसकी कहानी, उसी की ज़बानी!


चुलबुली आपको बढ़िया-बढ़िया चित्र बनाकर दिखा रही है!
चलिए चलें देखने : उसके चित्रों का नयापन!


क्या आप आदित्या को जानते हैं?
ज़रा देखिए तो यह अपनी कक्षा के बच्चों के साथ क्या कर रही है!
बैंकॉक, थाईलैंड में अपने साथियों को कुछ सिखा भी रही है!


और यह रही माधवी! इसकी तो हर अदा निराली है!
आजकल इसको पढ़ने में बहुत मज़ा आ रहा है!


चैतन्या की बातें भी एकदम निराली हैं : बिल्कुल चैतन्या की तरह!
कैलगैरी, कनाडा में शुरू हुए पतझर में रंग बदलते पत्तों के बारे
यह आपको बहुत रोचक जानकारी दे रही है : एक अनोखे अंदाज़ में!


मेरी तरफ से इन सभी को असीम स्नेह और आशीष!

रावेंद्रकुमार रवि
------------------------------------------------------------

17 टिप्‍पणियां:

चैतन्य शर्मा ने कहा…

सभी फ्रेंड्स की प्यारी प्यारी बातें बताई आपने......मुझे शामिल करने के लिए आभार.....

Archana ने कहा…

इनके चेहरों पर मुस्कान सदा बनी रहे --आशीष सबको...आभार खूबसूरत मुस्कानों को संजोने के लिए..

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर और प्यारी चर्चा ...सब बेटियों को आशीष और शुभकामनायें

rashmi ने कहा…

बधाई इतनी प्यारी-२ बेटियों से मिलवाने के लिए......सुंदर प्रस्तुति...

Saba Akbar ने कहा…

नन्हें दोस्तों से मिलवाने और उनकी मनमोहक दुनिया से रूबरू करवाने का शुक्रिया..

शुभम जैन ने कहा…

betiyon ki charcha betiyon jaisi hi pyari...saath me maadhvi aaditay aur chaitanya beti ban kar aur bhi pyare ho gye :) :)

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

शुभम् जैन की टिप्पणी का लिप्यांतरण -

बेटियों की चर्चा बेटियों जैसी ही प्यारी ...
betiyon ki charcha betiyon jaisi hi pyari ...

साथ में माधवी आदित्या और चैतन्या
saath me maadhvi aaditay aur chaitanya

बेटी बन कर और भी प्यारे हो गए :) :)
beti ban kar aur bhi pyare ho gye :) :)

रंजन ने कहा…

बहुत बहुत सुन्दर.. एक से बढ़ कर एक प्यारी प्यारी बेटियाँ...

माधव ने कहा…

माधव -माधवी
आदित्य- आदित्या

क्या बात है !

आपने तो कमाल कर दिया , अंदाज़ बिलकुल निराला .

mahendra verma ने कहा…

प्यारी-पयारी बेटियों से परिचित कराने के लिए धन्यवाद...बेटियों के चित्र भी बहुत प्यारे हैं।

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
चक्रव्यूह से आगे, आंच पर अनुपमा पाठक की कविता की समीक्षा, आचार्य परशुराम राय, द्वारा “मनोज” पर, पढिए!

शुभम जैन ने कहा…

बच्चो के उत्साहवर्धन हेतु एक लघु प्रयास, कृपया आप अवश्य पधारे :
मिलिए ब्लॉग सितारों से

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बिटियों की महिमा अनन्त है!
बिटियों से घर में बसन्त है!!

sidheshwer ने कहा…

* Feeling great to see links pertaining to little angels!

* Really great and soothing!

रानीविशाल ने कहा…

बहुत खुबसूरत चर्चा रही मामसाब.......सारे दोस्तों से मिलकर बहुत अच्छा लगा . धन्यवाद
नन्ही ब्लॉगर
अनुष्का

Akshita (Pakhi) ने कहा…

वाह, यहाँ तो सब बेटियां ही बेटियां हैं...खूबसूरत चर्चा.

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

ई-पत्र द्वारा प्राप्त संदेश -

मेरा भी बहुत-बहुत मधुर स्नेह इन सभी को।
mera bhi bahut bahut madhur sneh in sabhi ko.
डॉ.दिनेश पाठक शशि, मथुरा
Dr.Dinesh Pathak Shashi, Mathura

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति