"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

शनिवार, सितंबर 04, 2010

तुम भारत की फुलवारी : डॉ. देशबंधु शाहजहाँपुरी का नया बालकविता-संग्रह

----------------------------------------------------------------------------------------
----------------------------------------------------------------------------------------
"इस भारत की फुलवारी तो आप ही हो, जिसकी महक से
न केवल अपना देश, बल्कि सारा विश्व महकता है!"
----------------------------------------------------------------------------------------
यह कहते हुए डॉ. देशबंधु शाहजहाँपुरी ने अपना नया
संदेशात्मक बालकविता-संग्रह नन्हे दोस्तों को समर्पित किया है!

----------------------------------------------------------------------------------------
इस संग्रह में विभिन्न विषयों पर उनकी 25 बालकविताएँ संकलित हैं!
हर पृष्ठ टिकाऊ और रंगीन है!

----------------------------------------------------------------------------------------
अरविंद राज ने सुंदर चित्रों के साथ
इसके हर पृष्ठ को बहुत मेहनत से सजाया है!

----------------------------------------------------------------------------------------
----------------------------------------------------------------------------------------
आइए इस संकलन की एक कविता पढ़ते हैं!
----------------------------------------------------------------------------------------
नाव चली नानी के गाँव

बादल दादा ने जब आकर,
धरती माँ की प्यास बुझाई।
झूम उठे तब बाग-बगीचे,
पौधों ने ली फिर अँगड़ाई।

बिखर गई हरियाली चहुँदिश,
खिलकर सभी पुष्प मुस्काए।
लिली-चमेली ने तितली को,
मौसम के जयगान सुनाए।

सूर्य-किरण औ' नन्ही बूँदें,
खेल रही हैं आँख-मिचोली।
इंद्रधनुष भी नीलगगन में,
सजा रहा सुंदर रंगोली।

कागज की नावें ले-लेकर,
निकल पड़े हैं नन्हे पाँव।
तैराते ही सब चिल्लाए,
नाव चली नानी के गाँव।

डॉ. देशबंधु शाहजहाँपुरी
----------------------------------------------------------------------------------------
----------------------------------------------------------------------------------------
इस पुस्तक का मूल्य है - रु.साठ मात्र,
पर "सरस पायस" के पाठक इसे आधे मूल्य में
निम्नांकित पते से मँगा सकते हैं!

----------------------------------------------------------------------------------------
शोभा प्रकाशन
आनंदपुरम् कॉलोनी, बीवीजई चौराहा
कनौजिया अस्पताल के पीछे, शाहजहाँपुर (उ.प्र.) - 242001
----------------------------------------------------------------------------------------
चलभाष : 9415035767 और 9936604767
----------------------------------------------------------------------------------------
ई-मेल : deshbandhu1@rediffmail.com
----------------------------------------------------------------------------------------

6 टिप्‍पणियां:

JHAROKHA ने कहा…

बिखर गई हरियाली चहुँदिश,
खिलकर सभी पुष्प मुस्काए।
लिली-चमेली ने तितली को,
मौसम के जयगान सुनाए। -----बहुत ही सुन्दर बालगीत पढ़वाया रावेन्द्र जी आपने।डा0 देश बन्धु जी को उनके बालगीत संग्रह के प्रकाशन के लिये हार्दिक बधाई--तथा आपको यह जानकारी देने और संग्रह का बढ़िया बालगीत प्रकाशित करने के लिये धन्यवाद।

Coral ने कहा…

कागज की नावें ले-लेकर,
निकल पड़े हैं नन्हें पाँव।
तैराते ही सब चिल्लाए,
नाव चली नानी के गाँव।

बहुत सुन्दर है रचना

हेमंत कुमार ♠ Hemant Kumar ने कहा…

ड़ा0 देश बन्धु जी को बाल काव्य संग्रह के प्रकाशन के लिये हार्दिक बधाई----------------------------------------------- बादल दादा ने जब आकर,
धरती माँ की प्यास बुझाई।
झूम उठे तब बाग-बगीचे,
पौधों ने ली फिर अँगड़ाई।---और आपको इतना सुन्दर बालगीत प्रकाशित करने के लिये आभार।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (ਦਰ. ਰੂਪ ਚੰਦ੍ਰ ਸ਼ਾਸਤਰੀ “ਮਯੰਕ”) ने कहा…

ड़ा0 देश बन्धु जी को बाल काव्य संग्रह के प्रकाशन के लिये हार्दिक बधाई

माधव ने कहा…

हार्दिक बधाई

डॉ. देशबंधु शाहजहाँपुरी ने कहा…

आप सभी का बहुत बहुत आभार, आप सभी ने मेरे कविता संग्रह को सराहा!

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति