"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

सोमवार, नवंबर 22, 2010

सुंदर फूल खिलाए किसने : सरस चर्चा (21)

इस बार सरस चर्चा में सबसे पहले है

बाल-दुनिया पर प्रदर्शित झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई का एक दुर्लभ फ़ोटो!

159 साल पहले अर्थात् वर्ष 1850 में कोलकाता में रहनेवाले

एक अँगरेज़ फ़ोटोग्राफ़र

जॉनस्टोन एंड हॉटमैन ने इसे खींचा था।



इस फ़ोटो को 19 अगस्त, 2009 को

भोपाल में आयोजित विश्व फ़ोटोग्राफ़ी प्रदर्शनी में प्रदर्शित किया गया था।


और इसके बाद यह प्यारा-सा सवाल!


तितली को सुन्दर रंगों के

ये कपड़े पहनाए किसने,

ठण्डी-ठण्डी हवा चलाई

सुन्दर फूल खिलाए किसने?



- इस सवाल को पूछनेवाले हैं -

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’


नया-नया हवाई जहाज!


नई-नई साइकिल! ये दोनों चीज़ें पाकर माधव बहुत ख़ुश है!


छठ पूजा पर सबने सूर्य भगवान की पूजा की! और इशिता ने ... ... .


अरे, इन पेड़ों को क्या हो गया?


ऐसे में चैतन्य का क्या हाल है? ख़ुद ही देख लीजिए!


अभी सुनिए, देखिए और अनुष्का को बताइए!
आपको कैसा लगा उसका गाना?


चुलबुल के बनाए इस चित्र में क्या हो रहा है?


अक्षयांशी के पास आजकल बहुत काम है!
इसलिए वह अपने ब्लॉग पर कम आ पा रही है!


पाखी आजकल नाना-नानी के साथ ख़ूब मस्ती कर रही है!


नन्हे सुमन पर डॉ. रूपचंद्र शास्त्री मयंक की एक सुंदर-सी कविता लगी है!

सुन्दर-सुन्दर गाय हमारी।
काली गइया कितनी प्यारी।।

black cow_1

- अंत में पढ़िए : मेरी एक बालकविता -

-----------------------------------------------------------------
कलाबाजियाँ ख़ूब दिखाती
-----------------------------------------------------------------

जब भी वो ज़्यादा ख़ुश होती,
कलाबाजियाँ ख़ूब दिखाती!
मुझे रिझाने को वो अक्सर
‘चिक-चिक’ करके मुझे बुलाती!
-----------------------------------------------------------------
रावेंद्रकुमार रवि
-----------------------------------------------------------------

3 टिप्‍पणियां:

सैयद | Syed ने कहा…

वाह ! यहाँ आकर तो आज का दिन बन गया.. शुक्रिया ...

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर चर्चा रवि जी .... सभी बच्चों की पोस्ट अच्छी लगी ...चैतन्य को जगह देने के लिए आभार.....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

सुन्दर चर्चा के लिए बधाई!

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति