"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

बुधवार, जून 08, 2011

देखो, मैं कितना गोरा हूँ : क्या मुझको पहचाना?

गूगल पर खोज करते हुए आज मुझे 
यह विलक्षण फ़ोटो मिला! 
मैं तो इसे पहचान ही नहीं पाया! 
अनुमान लगाते हुए एक कविता भी रच गई!
अब आप सबकी मदद चाहिए! 
किसका हो सकता है, यह फ़ोटो? 
नाम तो आपको ही बताना है! 
कई संकेत इस कविता में छुपे हुए हैं!  

देखोमैं कितना गोरा हूँ!


मुझमें अंग-अंग है आता,
रगों-रगों से मैं बन जाता!

लगता तो बिल्कुल बोरा हूँ,
देखोमैं कितना गोरा हूँ!

खर्र-खर्र भी है मुझमें,
गोश्त बहुत-सा है मुझमें!

अंगूरों की याद दिलाता,
राख मिला पहचाना जाता! 


रावेंद्रकुमार रवि

10 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत बढ़िया!
अच्छी पहेली है!
उत्तर तो मुझे पता है,
मगर बताऊँगा नहीं!

सृजन पांडेय ने कहा…

ताऊ जी , यह है खरगोश .pluspets.net

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

प्रिय सृजन,
अभी कुछ कसर रह गई है!
यह उत्तर पूरी तरह से सही नहीं है!

Akshita (Pakhi) ने कहा…

पहले मयंक दादा जी बताएँगे, फिर हम बच्चों की बारी...

Kashvi Kaneri ने कहा…

यह है खरगोश या पपी भी होसकता है कुछ और भी… अब आप ही बताओ

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सुंदर कविता बन पड़ी है.....

चैतन्य शर्मा ने कहा…

आपको तो कमाल का फोटो मिला ....कविता भी सुंदर

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

इस पोस्ट के संबंध में फ़ेसबुक पर Raja Lambert --
Nice poem but mysterious animal....
Hopefully a Rabbit.
Keep on posting such simple
and easily understandable poems for the public.
Such poems takes us back to our elementary schooling days
where we use to recite such simple and meaningful poems.
Now a days such poems are very rare...........
seldom seen on Saras Paayas.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

अरे भाई!
यह तो बिल्ली है!

Richa P Madhwani ने कहा…

बहुत बढ़िया!

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति