"सरस पायस" पर सभी अतिथियों का हार्दिक स्वागत है!

शनिवार, जून 05, 2010

पेड़ लगाकर भूल न जाना : रावेंद्रकुमार रवि का नया बालगीत


पेड़ लगाकर भूल न जाना

आओ, हम सब पेड़ लगाएँ,
अपनी धरती ख़ूब सजाएँ!

पेड़ लगाकर भूल न जाना,
इनको पानी रोज़ पिलाना!
रोज़ सवेरे इन्हें चूमकर,
बहुत प्यार से फिर सहलाना!
इन पर बैठ सदा चिड़ियाएँ,
गीत ख़ुशी के हमें सुनाएँ!
आओ, हम सब ... ... .

पेड़ों को भाती है मस्ती,
इनकी छाया बिल्कुल सस्ती!
इनकी हरियाली से सजकर,
चहक-चहक गाएगी बस्ती!
इन पर फूल खिलें, मुस्काएँ,
सबका मन-मंदिर महकाएँ!
आओ, हम सब ... ... .
---------------------------------------------------
रावेंद्रकुमार रवि
-------------------------------------------------------------
(चित्रों में : सरस पायस, सलोनी राजपूत, प्रियांशु ओम)
-------------------------------------------------------------

22 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।

गिरिजा कुलश्रेष्ठ ने कहा…

गीत बहुत प्रासंगिक और प्रेरक है ।पेडों के प्रति यदि ऐसी संवेदना तथा अपने जीवन के प्रति ऐसी जागरूकता की आज सर्वाधिक आवश्यकता है ।

राज भाटिय़ा ने कहा…

अरे वाह अमरुद का पोधा लगाया, ओर फ़िर सुंदर कविता भी, धन्यवाद

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

भाटिया जी,
यह चाँदनी का पौधा है
और इस पोस्ट में सभी पेड़-पौधों का
प्रतिनिधित्व कर रहा है!

M VERMA ने कहा…

पेड़ लगाकर भूल न जाना,
इनको पानी रोज़ पिलाना!
सुन्दर चित्रमयी झांकी सुन्दर सन्देश

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

बहुत ही प्रेरक बालगीत है!

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

वृक्ष अमूल्य धरोहर हैं,
इनकी रक्षा करना होगा।
जीवन जीने की खातिर,
वन को जीवित रखना होगा।

तनिक-क्षणिक लालच को,
अपने मन से दूर भगाना है।
धरती का सौन्दर्य धरा पर,
हमको वापिस लाना है।।

अमिताभ मीत ने कहा…

बहुत सुन्दर !

Udan Tashtari ने कहा…

सार्थक प्रस्तुति!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

प्रेरणादायक बालगीत.....सुन्दर चित्रों के साथ...

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

अब तो मैं भी ऐसा ही करुँगी. प्रकृति और पर्यावरण की रक्षा के लिए छोटी-छोटी बातों का ख्याल रखूंगी. सुन्दर बाल-गीत.


_______________________
'पाखी की दुनिया' में आज 'विश्व पर्यावरण दिवस' पर 'वृक्ष कहीं न कटने पायें' !

ज्योति सिंह ने कहा…

upयोगी रचना ,मैं एक महीने बाहर रही इस कारन बहुत सी पोस्ट चूक गयी अब आती रहूंगी .

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

कल मंगलवार को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है



http://charchamanch.blogspot.com/

स्वप्निल तिवारी ने कहा…

seedhi sadi ..aur mahatvapooran rachna...abhi kal hi global warming ke ek project ke liye ek get likh raha tha ..abhi bhi usi mode me hun ...to aap ki kavita aur jyada achhi lagi ..charchamanch ke raste yahaan tak pahuncha hun ...

माधव( Madhav) ने कहा…

प्रेरणादायक बालगीत

Chaitanyaa Sharma ने कहा…

बहुत सुंदर कविता है....

Chinmayee ने कहा…

बहुत सुन्दर गीत ... प्रकृति की बात हमें कभी भूलना नहीं चाहिए !

अनाम ने कहा…

प्रेरक गीत... बहुत सुन्दर..

डॉ. नागेश पांडेय संजय ने कहा…

प्रेरक प्रस्तुति के लिए धन्यवाद .

आज अभिनव सृजन http://abhinavsrijan.blogspot.com/
में पढ़िए --


बालगीत :नागेश पांडेय 'संजय '
आओ पेड़ लगाएँ
गरमी, वर्षा, शीत कड़ी
ये अविकल सहते जाते,
लू, आँधी, तूफान भयंकर
देख नहीं घबड़ाते।
सहनशीलता, साहस की
ये पूजनीय प्रतिमाएँ।

TEACHER'S PAGE ने कहा…

बहुत अच्छे

उमेश चन्द्र सिरसवारी ने कहा…

गीत बेहद सुन्दर और रोचक तो हैं ही साथ ही प्रेरक भी हैं... बधाई.

मैं अपने पत्र में अवश्य ही जिक्र करूँगा.. बधाई सर

Related Posts with Thumbnails

"सरस पायस" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नियमावली : कोई भी भेज सकता है, "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ रचनाएँ!

"सरस पायस" के अनुरूप बनाने के लिए प्रकाशनार्थ स्वीकृत रचनाओं में आवश्यक संपादन किया जा सकता है। रचना का शीर्षक भी बदला जा सकता है। ये परिवर्तन समूह : "आओ, मन का गीत रचें" के माध्यम से भी किए जाते हैं!

प्रकाशित/प्रकाश्य रचना की सूचना अविलंब संबंधित ईमेल पते पर भेज दी जाती है।

मानक वर्तनी का ध्यान रखकर यूनिकोड लिपि (देवनागरी) में टंकित, पूर्णत: मौलिक, स्वसृजित, अप्रकाशित, अप्रसारित, संबंधित फ़ोटो/चित्रयुक्त व अन्यत्र विचाराधीन नहीं रचनाओं को प्रकाशन में प्राथमिकता दी जाती है।

रचनाकारों से अपेक्षा की जाती है कि वे "सरस पायस" पर प्रकाशनार्थ भेजी गई रचना को प्रकाशन से पूर्व या पश्चात अपने ब्लॉग पर प्रकाशित न करें और अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित न करवाएँ! अन्यथा की स्थिति में रचना का प्रकाशन रोका जा सकता है और प्रकाशित रचना को हटाया जा सकता है!

पूर्व प्रकाशित रचनाएँ पसंद आने पर ही मँगाई जाती हैं!

"सरस पायस" बच्चों के लिए अंतरजाल पर प्रकाशित पूर्णत: अव्यावसायिक हिंदी साहित्यिक पत्रिका है। इस पर रचना प्रकाशन के लिए कोई धनराशि ली या दी नहीं जाती है।

अन्य किसी भी बात के लिए सीधे "सरस पायस" के संपादक से संपर्क किया जा सकता है।

आवृत्ति